कोरोना का टीकाकरण बहुत ही जरूरी हो गया है। कोरोना से बचने के लिए टीका जरूरी है और मास्क और दूरी बनाए रखना भी बेहद जरूरी है। कोरोना अभी बहुत ही तेजी से फैल रहा है। इन हालातों में कोरोना से बचने के लिए सैफ्टी रहना और कोरोना को हराने के लिए शरीर में इम्यूनिटी सिस्टम सही होना चाहिए। इसी के साथ वैक्सीन की बात करें तो वैक्सीन लगवाने के बाद कोरोना से सुरक्षित हैं नहीं हो रहे हैं।


लोगों में एक बात का भ्रम हैं कि कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद से कोरोना नहीं होगा लेकिन यह गलत है। जानकारी के लिए बता दें कि पश्चिम बंगाल में कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवाने वाले लोग ही महामारी के साइलेंट स्प्रेडर बन रहे हैं। डॉक्टर्स और वैज्ञानिकों ने इस बात को लेकर चिंता भी जाहिर की है। बता दें कि वैक्सीनेशन के बाद लोग जल्दी ही मास्क और अन्य सावधानियां नहीं बरते हैं।


जिन्हें वैक्सीन का शॉट अभी नहीं लगा है। कई मामलों में डॉक्टर्स ने बताया है कि मरीजों को परिवार के उन सदस्यों से संक्रमण हुआ है, जिन्हें वैक्सीनेशन के बाद भी कोरोना हुआ लेकिन उनमें लक्षण नहीं दिखाई दिए। यह एक तरह से डबल म्यूटेंट कोरोना है जो बहुत ही खामोशी से हमला करता है और मौत देता है। यहीं देश में चल रहा है। यही कारण है कि कोरोना टीकाकरण होने के बाद भी कोरोना बेकाबू होता जा रहा है।