फाइजर वैक्सीन को लेकर बड़ी खबर है कि इसके लगने के बाद भी 12000 से ज्यादा लोग कोरोना पाॅजिटिव हो गए हैं। यह वैक्सीन लगने के बाद 12400 से अधिक लोग इजराइयल में टेस्ट के दौरान कोरोनो वायरस संक्रमित पाए गए है। संक्रमित पाए गए लोगों में 69 लोग ऐसे शामिल हैं जिन्होंने वैक्सीन का दूसरा शॉट भी लिया था। फाइजर का टीका लगाए जाने के बाद इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने 189000 लोगों का टेस्ट कराया इनमें से 6.6 प्रतिशत लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

कोरोना वैक्सीन लगने के बाद भी इतने लोग पॉजिटिव पाए जाने के बाद इजरायल के महामारी नेशनल कॉर्डिनेटर नचमन ऐश ने कहा है, फाइजर का टीका जितना हमने सोचा था उससे कम प्रभावी निकला है। इजरायल ने 19 दिसंबर 2020 से वैक्सीनेशन प्रोग्राम शुरू कर दिया था। सबसे पहले बुजुर्गों को टीका लगाया जा रहा है। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि कुल लोगों में से चौथाई से अधिक को  फाइजर इंक का वैक्सीन लगाया गया है। लगभग एक चौथाई इजरायलियों ने अपना पहला टीका लगवाया और 3.5 प्रतिशत पहले ही अपनी दूसरी खुराक पा चुके थे।

स्वास्थ्य मंत्री यूली एडेलस्टीन ने कहा कि एक महीने पहले टीकाकरण के रोलआउट के बाद से 9 मिलियन रेजीडेंट्स में से 2.2 मिलियन को टीका लगाया गया। देश संक्रमण दर में तीसरे स्थान पर है। महामारी शुरू होने के बाद से इजरायल में साढ़े पांच लाख से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं और 4005 लोग मारे गए हैं। लॉकडाउन और टीकाकरण के बावजूद संक्रमण में वृद्धि कुछ लोगों द्वारा नियमों की अनदेखी को माना गया है। फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन के तेजी से वितरण के बदले में इजरायल ने बड़े पैमाने पर टीकाकरण के प्रभावों पर वैक्सीन निर्माताओं के साथ अपना डेटा साझा किया है।