पश्चिम काटीगड़ा का विस्तृत इलाका पिछले 6 महीने से बाढ़ के पानी में डूबा हुआ है नतीजतन इलाके के लोग बाढ़ के पानी में ही गुजरा करने को विवश हैं. 

इससे महादेवपुर, सरसपुर, टाईकन , नरोपाटी, थामला, जब्दा, लेबर पुता, शालीमाबाद, घोरारपार आदि इलाकों में सबसे ज़्यादा प्रभावित इलाके के किसान,स्कूली बच्चे तथा म,मजदूर हो रहे हैं. लोगो कोई पीना का साफ़ पानी नहीं नसीब हो रहा है. लोग गन्दा पानी पीकर जीवित रहने को मजबूर हैं. 

लगभग एक हजार हेक्टेयर भूमि पानी में है. खेती पूरी तरह से चौपट हो गयी है इतना ही नहीं कई सरकारी स्कूल भी पुईरी तरह बाढ़ के पानी में डूब चुके हैं जिससे बच्चों की पढाई पूरी तरह से ठप्प हो गयी है, लोगो ने संबंधित विभागों से तत्काल मदद की गुहार लगाई है.