पेगासस जासूसी विवाद को लेकर विपक्षी दलों ने संसद के बाहर धरना दिया। कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, शिवसेना और वाम दलों के नेताओं ने संयुक्त रूप से कई शीर्ष राजनेताओं, पत्रकारों और कार्यकर्ताओं के फोन टैप किए जाने के आरोपों को लेकर प्रदर्शन किया। विपक्षी नेताओं ने आरोपों की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में न्यायिक जांच की मांग की है।


पेगासस जासूसी कांड पर केंद्र पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पेगासस स्पाइवेयर "आतंकवादियों के खिलाफ इस्तेमाल करने के लिए इजरायली राज्यों द्वारा वर्गीकृत एक हथियार है"। राहुल गांधी ने कहा कि “पीएम और गृह मंत्री ने हमारे खिलाफ पेगासस का इस्तेमाल किया। इसके लिए एकमात्र शब्द देशद्रोह है। इसकी जांच होनी चाहिए और गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए "।