Paytm अब Google और एपल को टक्कर देने वाला है क्योंकि उसने अपना मिनी ऐप स्टोर लॉन्च कर दिया है। Paytm Mini App Store तब लॉन्च किया गया है जब कुछ दिन पहले गूगल ने प्ले स्टोर से पेटीएम को हटा दिया था। ऐसे में पेटीएम द्वारा खुद का मिनी ऐप स्टोर लाना गूगल का चिंता बढ़ा सकता है। पेटीएम के मिनी ऐप स्टोर के आने से यूजर्स को गूगल प्ले स्टोर के अलावा भी एक विकल्प मिल गया है।
पेटीएम के ऐंड्रॉयड मिनी ऐप स्टोर का फायदा ऐप डिवेलपर्स और ब्रैंड्स को भी मिलेगा क्योंकि इसकी पहुंच और डिस्ट्रीब्यूशन काफी ज्यादा है। पेटीएम ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि मिनी ऐप स्टोर ओपन सोर्स टेक्नॉलजी जैसे HTML और जावास्क्रिप्ट को इंटीग्रेट करेगा और पेटीएम ऐप के 15 करोड़ ऐक्टिव यूजर्स को ऐक्सेस देगा।
पेटीएम के मिनी ऐप स्टोर पर ऐप्स की एंट्री हो गई है। इस वक्त पेटीएम मिनी ऐप स्टोर पर 1MG, नेटमेड्स, डीकैथलॉन जैसे कई और ऐप लिस्ट हो चुके हैं। पेटीएम का कहना है कि डिवेलपर्स इस प्लैटफॉर्म पर पेटीएम वॉलिट और यूपीआई के जरिए जीरो प्रतिशत पेमेंट चार्ज पर ऐप्स को डिस्ट्रीब्यूट कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड से ऐसा करने पर ऐप डिवेलपर्स को 2 प्रतिशत चार्ज देना होगा।
पेटीएम मिनी ऐप स्टोर में ऐनालिटिक्स के लिए डिवेलपर डैशबोर्ड के साथ अलग-अलग मार्केटिंग टूल के साथ पेमेंट कलेक्शन का भी ऑप्शन मौजूद है। पेटीएम के सीईओ और फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने मिनी ऐप स्टोर के लॉन्च पर एक ट्वीट भी किया।
मिनी ऐप्स एक तरह के कस्टम बिल्ड मोबाइल वेब होते हैं, जो यूजर्स को बिना डाउनलोड किए ऐप जैसा एक्सपीरियंस देते हैं। 8 अक्टूबर को कंपनी एक 'पेटीएम मिनी ऐप डिवेलपर कॉन्फ्रेंस' भी करने वाली है। पेटीएम का ऐप स्टोर कुछ चुनिंदा यूजर्स के लिए पिछले कुछ समय से बीटा में उपलब्ध था। ऐप यूजर्स को काफी पसंद आया और सितंबर में इसको 1.2 करोड़ विजिट मिले।