सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। चामलिंग ने विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) की तुलना में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा(एसकेएम) को अधिक सीटें मिलने के परिप्रेक्ष्य में इस्तीफा दिया है। 

 पी एस गोली की अध्यक्षता वाली एसकेएम ने 17 सीटें जीती है और उसे बहुमत के लिए महज एक सीट की जरुरत है, जबकि एसडीएफ को 15 सीटें मिली है। चामलिंग ने आखिरी बार कैबिनेट की बैठक बुलाई और इसके बाद वह राजभवन में राज्यपाल गंगा प्रसाद से मिले तथा उन्हें अपना इस्तीफा सौंपा। राज्यपाल ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है और नये मुख्यमंत्री के शपथग्रहण लेने तथा नयी सरकार बनने उन्हें पद पर बने रहने की सलाह दी। 

सिक्किम में लगातार पांच बार मुख्यमंत्री बनने का रिकार्ड बनाने वाले चामलिंग इस बार अपने मुख्यमंत्री पद की रजत जयंती मनाने के आकांक्षी थे , लेकिन उनकी यह अभिलाषा अधूरी रह गयी। इस बीच एसकेएम ने अपनी सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। सिक्किम में लगातार पांच बार मुख्यमंत्री बने पवन चामलिंग ने दो विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा। चामलिंग ने पोकलोक कामरंग सीट से निकटतम प्रतिद्वंद्वी खरका बहादुर राय को 2,899 मतों से हराया, जबकि नामचि सिंगिथांग सीट वह महज 377 वोटों से जीत सके।