रेल मंत्रालय ने परिचालन और सुरक्षा से संबंधित दूरसंचार सुविधाओं के आधुनिकीकरण के लिए भारत सरकार के सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमेटिक्स (सी-डॉट) के साथ गठजोड़ किया है। रेल मंत्रालय ने यह जानकारी देते हुए बताया कि समझौते का उद्देश्य समन्वय और संसाधन साझा करने के लिए मंत्रालय और सी-डॉट के बीच एक सहयोगी कार्य साझेदारी स्थापित करना है। 

यह भी पढ़े : School summer vacations 2022: गर्मी का कहर जारी , स्कूलों में कब होंगी गर्मी की छुट्टियां? देखें राज्यवार लिस्ट


केंद्रीय संचार मंत्रालय के राज्य मंत्री देवुसिंह चौहान ने स्वदेशी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कू ऐप पर पोस्ट कर लिखा कि सी-डॉट, दूरसंचार विभाग और भारतीय रेलवे दूरसंचार प्रणाली विकसित करने के लिए एक साथ गठजोड़ किया है। दूरसंचार और रेलवे का तालमेल लोगों के लिए अत्याधुनिक सुरक्षा उपलब्ध कराया जाएगा।

बयान में कहा गया कि सी-डॉट और मंत्रालय, एलटीई-आर (दीर्घावधि विकास क्रम क्षमता) का उपयोग करते हुए सार्वजनिक सुरक्षा और सुरक्षा सेवाओं के लिए रेलवे में दूरसंचार के आधुनिकीकरण के लिए मिलकर काम करेंगे। इससे ट्रेनों के अंदर, ट्रेन से जमीन तक और ट्रेन से ट्रेन तक हाई-स्पीड वायरलेस वॉयस और डेटा संचार की सुविधा उपलब्ध होगी। यह रेलवे को ‘मेक इन इंडिया’ नीति के अनुरूप वैश्विक मानकों के अनुपालन में भी मदद करेगा।