शिलोंग । मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने शुक्रवार को कहा कि राजनीतिक दलों को विधानसभाओं और लोकसभा के चुनाव साथ-साथ कराने पर सभी दलों को विश्लेषण करना चाहिए ।

संगमा ने पत्रकारों को बताया कि इस पूरी अवधारण का व्यवहारिक प्रयोग, इस पूरी  प्रक्रिया को कैसे  लागू किया जा सकता है, इसे पुरे  संवैधानिक जनादेश या प्रावधान के संदर्भ में देखा जा सकता है। बुधवार को चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा था कि चुनाव आयोग सितंबर 2018 तक राज्य विधानसभाओं और लोकसभा के लिए एक साथ चुनाव कराने के लिए तैयार हो सकता है।

उन्होंने कहा कि जहां  तक संसद की बात है तो अगर मध्यावधि चुनाव की मांग  की जाती है तो क्या हम सभी राज्यों में मध्यावधि चुनाव के लिए जाएंगे, क्योंकि जनादेश पांच साल के लिए है । कांग्रेस नेता ने कहा कि साथ-साथ चुनाव कराने का प्रस्ताव एक लंबी प्रक्रिया हैं, जिस पर राजनीतिक दलों को मंथन करना  होगा  ।