पेरेंट्स के लिए ऐसे बच्चों को संभालना काफी मुश्किल हो जाता है जो जिद्दी होते हैं। ऐसे बच्चे किसी नहीं सुनते और बस अपनी मर्जी से ही काम करते है। लेकिन इसके पीछे कारण वो नहीं बल्कि पेरेंट्स खुद होते हैं। ऐसे में समय के साथ जिद्दी बच्चों को मनाना पेरेंट्स के लिए काफी बड़ी चुनौती हो जाती है। लेकिन चिंता की कोई बात नहीं क्योंकि कुछ ऐसे तरीके Parenting Tips भी हैं जिनसे जिद्दी बच्चों को समझदार बनाया जा सकता है।

ध्यान से सुनें बच्चों की बात
यदि आप चाहते हैं कि आपका जिद्दी बच्चा stubborn child आपकी बात सुने तो पहले आपको खुद ध्यान से उसकी बात सुननी पड़ेगी। कई बार बच्चे बहस करने लगते हैं। अगर आप उनकी बात नहीं सुनेंगे तो वो और ज्यादा जिद्दी हो जाएंगे। बच्चा अगर जिद करे तो शांति और धैर्य से उनकी बात सुनें और उनकी बात खत्म होने से पहले उन्हें ना टोकें।

जबर्दस्ती नहीं करें
बच्चों के साथ किसी भी चीज को लेकर जबर्दस्ती नहीं करें क्योंकि ऐसा करने पर वो विद्रोही होते जाते हैं। बच्चों के साथ जबरदस्ती करने की बजाय उनसे जुड़ने की कोशिश करें। उसकी पसंद में दिलचस्पी लेने से वो आपको हर बात बताएगा और फिर आप प्यार से उसे समझा सकते हैं कि क्या सही है और क्या गलत।

यह भी पढ़ें— गजब! इस लड़की के हैं 9 फुट 10 इंच लंबे बाल, जानिए क्या है सीक्रेट

विकल्प जरूर दें
बच्चों को ऑर्डर देने की बजाय उन्हें सुझाव के साथ ही विकल्प भी देने की कोशिश करें। फिर भी बच्चा आपकी बात नहीं मानता तो धैर्य रखें। बिना आपा खोए अपनी बात को कई बार कहें। आपका बच्चा जल्द ही अपनी जिद छोड़ देगा।

अपनी बात शांति से मनवाएं
बच्चे पर चिल्लाएंगे तो वो आपको जवाब देना सीख जाएगा। बच्चे के साथ बातचीत हमेशा एक निष्कर्ष तक ले जाएं। याद रखें कि आपको अपने बच्चे को कुछ समझाना है, लड़ाई नहीं करनी। बच्चों के साथ उनके पसंदीदा काम में शामिल होने से वो भी आपके हिसाब से ढलने लग जाते हैं।

सम्मान करें
यदि आप चाहते हैं कि आपके बच्चे आपकी बातें माने तो आपको भी उनकी बातों का सम्मान करना है। बच्चे थोपी हुई चीजें मानने से इनकार कर देते हैं।

बच्चों के साथ काम करें
जिद्दी बच्चे या अड़ियल रवैये वाले बच्चे बहुत ज्यादा संवेदनशील होते हैं। ऐसे बच्चे हर बात को गहराई से महसूस करते हैं। इसलिए अपनी आवाज, बॉडी लैंग्वेज, अपने शब्दों को लेकर खास सावधानी बरतें।

जरूरी है सौदेबाजी
जब बच्चों को अपनी मर्जी की चीज नहीं मिलती है तो वे जिद दिखाने लगते हैं। उनकी हर मांग का सूझबूझ और व्यावहारिक तरीके से इसका हल निकालें।