नई दिल्ली। पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Elections) अब अखाड़ा में तब्दील होता जा रहा है। नेताओं की सियासी बयानबाजी भी तेज हो गई है। इसी बीच पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया (Bikram Singh Majithia) को एक बड़ी चुनौती दी है।

अमृतसर (पूर्व) से नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को अपना नामांकन दाखिल किया और अपने चिर प्रतिद्वंद्वी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया को इस सीट से ही लड़ने की चुनौती दी है। मांकन पत्र दाखिल करने के बाद सिद्धू ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'अगर आपमें हिम्मत है और लोगों पर भरोसा है, तो मजीठा को छोड़कर यहां एक सीट से लड़ो! क्या तुममें हिम्मत है?"

इसके साथ ही सिद्धू ने कहा कि वे लूट का खेल खेलने आए हैं, लेकिन इस 'धर्म युद्ध' में सफल नहीं होंगे। चुनावी लड़ाई दो दिग्गजों- सिद्धू बनाम मजीठिया के बीच बन गई है। मजीठिया शिअद के सबसे शक्तिशाली नेताओं में से एक है। अमृतसर (पूर्व) निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के अलावा, मजीठिया, (जो शिअद अध्यक्ष सुखबीर बादल के बहनोई हैं) अमृतसर के पास मजीठा से भी चुनाव लड़ने वाले हैं।