करीब पांच माह पहले गलती से नियंत्रण रेखा पार कर पीओके गई 36 वर्षीय एक महिला को पाकिस्तान ने बीते दिन को लौटा दिया। पाकिस्तानी सेना ने चक्कां दा बाग की राह-ए-मिलन के रास्ते जरीना बी को सेना के हवाले किया। 

सेना ने जरीना को पुलिस तक पहुंचाया जहां से कानूनी प्रक्रिया पूरी कर उसे परिजनों के हवाले कर दिया गया। बीते दिन जिला मुख्यालय से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर भारत-पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर स्थित चक्कां दा बाग की राह-ए-मिलन के गेट खोले गए। यहां भारत और पाकिस्तानी सेना व प्रशासन के अधिकारियों की मुलाकात हुई। इसके बाद पीओके की तरफ से जरीना बी निवासी गांव छेला ढांगरी तहसील मंडी जिला पुंछ को नियंत्रण रेखा के इस पार उसके वतन वापस भेजा गया।

एएसपी पुंछ खालिद अमीन ने बताया कि मानसिक रूप से बीमार जरीना बी 22 सितंबर 2020 को गलती से नियंत्रण रेखा पार कर पीओके चली गई थी। इसके बाद जिला प्रशासन, पुलिस और सेना ने पाकिस्तानी सेना एवं प्रशासन से उसकी वतन वापसी के लिए प्रयास शुरू किए थे। जानकारी के अनुसार जरीना बी के पति की कुछ साल पहले मौत हो गई थी। उसका इकलौता बेटा भी दुनिया से चल बसा। जिसके चलते उसकी मानसिक हालत बिगड़ गई। वह पिछले करीब चार साल से अपने पिता के घर में ही रह रही थी। जहां से वह गलती से नियंत्रण रेखा के उस पार चली गई थी।