कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच पाकिस्तान ने संभवत: फैसला किया है कि वैक्सीन के लिए अब दूसरे देशों के भरोसे नहीं बैठेगा। संकट बढ़ता देखकर उसने विभिन्न देशों से कोरोना वायरस के टीकों की तीन करोड़ खुराक खरीदने के लिए समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। 

पाकिस्तान के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा विभाग के विशेष सहायक डॉक्टर फैसल सुल्तान ने  मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान में कोरोना टीकाकरण का काम सही गति से आगे बढ़ रहा है। डॉक्टर सुल्तान ने कहा, हम अन्य देशों से मिलने वाली मदद पर निर्भर नहीं हैं और 90 प्रतिशत टीके खरीदे जा रहे है। उन्होंने कहा कि जून के अंत तक कोरोना वैक्सीन की 1। 9 करोड़ खुराक मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि सोमवार से देश में 40 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो चुकी है। 

पाकिस्तान में प्रतिदिन कोरोना वैक्सीन की 1,50,000 खुराक दी जा रही हैं। इसे बढ़ाकर 3 लाख करने का लक्ष्य है। पाकिस्तान का लक्ष्य इस वर्ष के अंत तक देश के सात करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाना है। पाकिस्तान जल्द ही चीनी की कोरोना वैक्सीन कैनसिनो का उत्पादन भी शुरू करेगा। पाकिस्तान का राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान प्रति माह कोरोना वैक्सीन की 30 लाख खुराक का उत्पादन करेगा, जिससे विदेशी निर्भरता कम की जा सके।