पाकिस्तान (pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran khan) ने ये स्वीकार कर ली है उनके कार्यकाल में पाकिस्तान के हालात बेहद खराब हुए हैं। इमरान ने कहा कि सरकार के पास देश चलाने के लिए पैसा नहीं है और इसलिए उन्हें दूसरे देशों से लोन लेना पड़ता है। इमरान खान ने कहा कि बढ़ता विदेशी कर्ज और टैक्स रिवेन्यू में कमी कहीं ना कहीं राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा बन चुका है और सरकार के पास लोगों के कल्याण पर खर्च करने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं हैं।

फेडरल बोर्ड ऑफ रिवेन्यू के पहले ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम के उद्घाटन समारोह के चलते इमरान खान इस्लामाबाद में मौजूद थे। उन्होंने अपने संबोधन के दौरान कहा कि 'हमारी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हमारे पास अपने देश को चलाने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है, जिसके कारण हमें कर्ज लेना पड़ता है। उन्होंने खेद जताते हुए कहा कि टैक्स का भुगतान न करने की संस्कृति औपनिवेशिक काल की विरासत है जब लोग टैक्स देना पसंद नहीं करते थे क्योंकि उन्हें लगता था कि उनका पैसा उन पर खर्च नहीं किया जा रहा है। बता दें कि ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम तंबाकू, उर्वरक, चीनी और सीमेंट सहित महत्वपूर्ण क्षेत्रों के उत्पादन और बिक्री की इलेक्ट्रॉनिक निगरानी सुनिश्चित करेगा। पाक को उम्मीद है कि इससे व्यवस्था में पारदर्शिता लाने और राजस्व वृद्धि में मदद मिलेगी।

इमरान खान ने इसके अलावा पिछली सरकारों पर भी ठीकरा फोड़ा है। इमरान खान ने साल 2009 से 2018 तक की पिछली दो सरकारों की जमकर आलोचना करते हुए कहा कि स्थानीय संसाधनों को उत्पन्न करने में विफलता के कारण पिछली सरकारों ने लोन का सहारा लिया था। उन्होंने कहा कि इन सरकारों ने काफी बड़ी धनराशि लोन में ली थी।