इस्लामाबाद। पाकिस्तान में संयुक्त विपक्ष ने सत्ताधारी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) को प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ सोमवार को अविश्वास प्रस्ताव नहीं आने पर नेशनल असेंबली (एनए) के बाहर धरना देने की चेतावनी दी। स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट में शनिवार को यह जानकारी दी गयी। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान, नेशनल असेंबली में विपक्ष के नेता शाहबाज शरीफ और बीएनपी-एम प्रमुख अख्तर मेंगल के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो-जरदारी ने कहा कि अगर एनए अध्यक्ष असद कैसर 'अलोकतांत्रिक' प्रथाओं को अपनाते हैं, तो विपक्ष प्रतिरोध दिखाएगा।

यह भी पढ़े- मंत्रिमंडल की पहली बैठक में पंजाब सरकार ने दिखाया बड़ा दिल, युवाओं को दिया तोहफा

उन्होंने कहा, 'अगर ऐसा होता है, तो मैं सभी विपक्षी दलों को नेशनल एसेंबली के बाहर धरना देने के लिए मनाऊंगा। यदि सोमवार को प्रस्ताव पेश नहीं किया जाता है, तो हम संसद के बाहर से हटेंगे। हम देखेंगे कि आप इस्लामिक सहयोग संगठन सम्मेलन कैसे रखेंगे।' पीपीपी अध्यक्ष ने सरकार पर अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में मतदान करने के खिलाफ सांसदों को धमकाने का आरोप लगाया। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार एनए अध्यक्ष को संबोधित करते हुए शाहबाज ने कहा कि उन्हें 'होश में आना चाहिए' और 'प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी नहीं बनना चाहिए।' 

उन्होंने कहा, 'लोकतंत्र को पटरी से नहीं उतरने दें, नहीं तो न तो इतिहास और न ही पाकिस्तान की जनता आपको माफ करेगी। अगर अध्यक्ष सदन को व्यवस्थित करने में विफल रहता है, तो हम विरोध करने के लिए मजबूर होंगे।' उन्होंने शुक्रवार को सिंध हाउस में घुसने वाले पीटीआई सदस्यों पर निशाना साधते हुए कहा, 'यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी, क्योंकि दंगाइयों ने सिंध हाउस पर हमला किया था।' उन्होंने कहा, 'सदन पर हमला न केवल ङ्क्षसध की अखंडता के बारे में था बल्कि यह पाकिस्तान पर हमला था।' 

यह भी पढ़े- त्रिपुरा में माकपा के राज्यसभा उम्मीदवार की घोषणा के बाद भाजपा से सीधी लड़ाई

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री इमरान खान को हटाने की मांग करने वाले विपक्षी दलों ने आठ मार्च को एनए सचिवालय में अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। विपक्षी दलों ने इमरान पर 'अर्थव्यवस्था का कुप्रबंधन और खराब शासन' करने का आरोप लगाया था।