इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने अपने देश की राजनीति में अमेरिका के कथित हस्तक्षेप को लेकर विरोध जताया है और एक वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक को तलब किया है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी। 

यह भी पढ़ें- केंद्र ने पांच राज्यों के लिए खोला खजाना, अतिरिक्त सहायता की मंजूरी

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने गुरुवार देर रात अमेरिका से उस धमकी भरे पत्र पर औपचारिक विरोध व्यक्त किया, जिसमें प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव विफल होने पर गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी गयी थी। 

रिपोर्ट के मुताबिक से कहा गया है कि इस तरह की गैर-राजनयिक भाषा का इस्तेमाल अस्वीकार्य है। उल्लेखनीय है कि खान ने देश के नाम अपने संबोधन में धमकी भरे पत्र का जिक्र किया था और इसे अपनी सरकार को हटाने के लिए विदेशी साजिश का हिस्सा बताया। 

यह भी पढ़ें- श्रेयस अय्यर ने वानखेड़े स्टेडियम की पिच के लिए बोल दी ऐसी बात , KKR प्वाइंट्स टेबल में टॉप पर

उन्होंने कहा कि अमेरिकियों को पहले से पता था कि उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव आ रहा है। इसका मतलब है कि वे (विपक्ष) विदेशों में इन लोगों से जुड़े थे। इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के आरोपों का खंडन किया है।