अभी एक ओर जहां भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव बना हुआ है और इस मसले को सुलझाने की कोशिशें चल रही है, वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान हताश और निराश होने के साथ डरा हुआ है। इतना ही नहीं बल्कि पाकिस्तान आर्मी भी खौफ में हैं। चीन के साथ ही कहीं पाकिस्‍तान फ्रंट पर भी भारत का आक्रमण न हो जाए इसी डर में वहां के आर्मी चीफ ने नया ऑर्डर जारी किया है। जनरल कमर जावेद बाजवा ने पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री को लिखा है कि वहां के सारे अस्‍पतालों में 50 पर्सेंट बेड आर्मी के लिए रिजर्व रखे जाएं। 50% ब्‍लड सप्‍लाई को भी पाकिस्‍तानी सैनिकों के लिए रिजर्व रखने को कहा गया है।
PoK के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ मुहम्‍मद नजीब नकी खान को लिखी चिट्ठी में जनरल बाजवा लिखते हैं, "कृपया सारे अस्‍पतालों में 50 प्रतिशत बेड हर वक्‍त पाकिस्‍तान सेना के लिए रिजर्व रखिए। इमर्जेंसी सिचुएशन के लिए ब्‍लड बैंक्‍स में खून का पर्याप्‍त स्‍टॉक मेंटेन कीजिए।" जनरल बाजवा ने यह लेटर ऐसे वक्‍त में लिखा है जब पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं बेहद तनावपूर्ण माहौल में आमने-सामने हैं। इधर, एलओसी पर पाकिस्‍तान की ओर से लगातार सीजफायर तोड़ा जा रहा है।
कश्‍मीर घाटी से आतंकियों का सफाया करने में सुरक्षा बल लगे हुए हैं। शुक्रवार को त्राल में तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया। कश्‍मीर में रोज कहीं न कहीं आतंकियों की सुरक्षा बलों से मुठभेड़ हो रही है। इस साल जितने आतंकी भर्ती नहीं हुए, उससे ज्‍यादा मार दिए गए हैं। ऊपर से बॉर्डर के उसपार से आए दिन शेलिंग होती रहती है। हाल के दो महीनों में चीन और भारत के बीच में जिस तरह से तनाव बढ़ा है, उससे पाकिस्‍तान अलर्ट है। गलवान घाटी में 15 जून को भारतीय सैनिकों ने जिस तरह चीनी हमले का न सिर्फ डटकर सामना किया, बल्कि उन्‍हें करारा जवाब भी दिया, उससे पाकिस्‍तान घबराया हुआ है।
15-16 जून की रात बिहार रेजिमेंट के जवानों ने गलवान घाटी में पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (PLA) के सैनिकों को मजा चखाया था। पैट्रोल पॉइंट 14 के पास चीनियों ने टेंट लगाया था जिसे यूनिट कमांडर कर्नल संतोष बाबू ने उखाड़ दिया। इसके बाद, चीनी सैनिकों ने हमला कर दिया। हिंसक झड़प में कर्नल समेत 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे। मगर बिहार रेजिमेंट के जवानों ने चीनी खेमे में जो तांडव किया, उसकी भनक पाकिस्‍तान को भी लगी होगी। जानकारी के मुताबिक, इस झड़प में भारत के 100 वहीं चीन के 350 जवान शामिल थे। बावजूद इसके बिहार रेजिमेंट के जवानों ने पेट्रोल पॉइंट 14 को खाली करवा लिया।