अफगानिस्तान में तालिबान की बढ़ती हिंसा के बीच पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ अपने अमेरिकी समकक्ष जेक सुलिवन से मुलाकात की है। यह मुलाकात इसलिए भी अहम बताई जा रही है क्योंकि पिछले कुछ महीनों से अमेरिका और पाकिस्तान के संबंधों में खटास देखी जा रही थी। माना जा रहा है कि इमरान खान ने इसी खटास को दूर करने के लिए अपने सबसे खास और भरोसेमंद मोईद यूसुफ को वॉशिंगटन भेजा था। मोईद यूसुफ और जेक सुलिवन ने इससे पहले मार्च में जिनेवा में भी मुलाकात की थी।

पाकिस्तानी एनएसए मोईद यूसुफ और उनके अमेरिकी समकक्ष जेक सुलिवन ने अपनी मुलाकात का औपचारिक ऐलान कई घंटे बाद किया। यूसुफ ने अपने ट्वीट में कहा, वाशिंगटन में एनएसए जेक सुलिवन के साथ सकारात्मक फॉलोअप बैठक हुई। हमारी जिनेवा बैठक के बाद से हुई प्रगति का जायजा लिया और आपसी हित के द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की। यूसुफ ने यह भी कहा कि दोनों पक्ष पाकिस्तान-अमेरिका द्विपक्षीय सहयोग में गति को बनाए रखने के लिए सहमत हुए।

पाकिस्तानी एनएसए ने बैठक में चर्चा किए गए मुद्दों में अफगानिस्तान का जिक्र नहीं किया लेकिन सुलिवन ने अपने ट्वीट का आधा हिस्सा अफगान मुद्दे को समर्पित कर दिया। उन्होंने कहा कि मैंने पाकिस्तान के एनएसए से क्षेत्रीय संपर्क और सुरक्षा और आपसी सहयोग के अन्य क्षेत्रों पर परामर्श करने के लिए मुलाकात की। हमने अफगानिस्तान में हिंसा में कमी की तत्काल आवश्यकता और संघर्ष के लिए बातचीत के जरिए राजनीतिक समाधान पर चर्चा की।

पाकिस्तान इन दिनों मुफलिसी में जिंदगी गुजार रहा है। उसकी अर्थव्यवस्था पहले से ही खराब थी, बाकी बची कसर को कोरोना महामारी ने पूरा कर दिया। इसलिए पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मुईद यूसुफ अमेरिका के साथ संबंधों में महत्वपूर्ण बदलाव की कोशिशों को लेकर जेक सुलिवन से मुलाकात की है। इस उच्च स्तरीय बैठक में पाकिस्तानी और अमेरिकी एनएसए ने द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर व्यापक बातचीत हुई है।