पाकिस्तान को आने वाले दिनों में एक बड़ा झटका लग सकता है। पाकिस्तान में फर्जी लाइसेंस मामले को लेकर 188 देश उसकी उड़ानों पर प्रतिबंध लगा सकते हैं। एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान एयरलाइंस में पायलट लाइसेंसिंग मुद्दे पर 188 देशों के लिए उड़ान भरने और अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (आईसीएओ) द्वारा आवश्यक अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने में विफलता के कारण प्रतिबंध का सामना करना पड़ सकता है। 

फर्जी पायलट लाइसेंस घोटाले के कारण यूके और यूरोपीय संघ ने पहले ही पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की उड़ानों पर 6 महीने तक प्रतिबंध लगा रखा है। पाकिस्तान में फर्जी पायलट लाइसेंस घोटाले का मामला उस वक्त सामने आया जब संघीय उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने बताया कि पीआईए के 141 सहित 262 पायलटों ने फर्जी लाइसेंस बनाए थे।

इस बीच आईसीएओ ने अपने 179वें सत्र की 12वीं बैठक में अपने सदस्य राज्यों को महत्वपूर्ण सुरक्षा चिंताओं (एसएससी) को संबोधित करने के लिए एक तंत्र को मंजूरी दी। आईसीएओ ने सुरक्षा चिंताओं को लेकर पाकिस्तान सिविल एविएशन अथॉरिटी को एक गंभीर चेतावनी जारी की। 3 नवंबर को लिखे पत्र में, आईसीएओ ने बताया कि पाकिस्तान में पायलटों के लिए लाइसेंसिंग प्रक्रिया के संबंध में लाइसेंस और उनके प्रशिक्षण के बारे में अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने में विफल रहा है।