आज की भागदौड़, बिजी लाइफस्टाइल, अनहेल्दी फूड की वजह से अक्सर लोग टेंशन और डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए वो पेन किलर का इस्तेमाल करते हैं। भले उन्हें इस तरह की दवाइयां खाने का तुरंत फायदा मिल जाता है, लेकिन लॉन्ग टर्म के लिए ये बेहद खतरनाक है।

यह भी पढ़े : सिक्किम में बिना तेल के बनाया जाता है लजीज फग्शापा मीट, पूरी दुनिया में मशहूर है ये होटल

नॉमर्ल दवाई डाइक्लोफेनेक का इस्तेमाल दिल का दौरा जैसी हृदय से जुड़ी जानलेवा बीमारियों के जोखिम को बढ़ा सकता है। एक स्टडी में इस बात को लेकर चेतावनी दी गई है। बीएमजे (BMJ) में छपे इस रिसर्च में डाइक्लोफेनेक के उपयोग की तुलना पैरासिटामोल तथा अन्य पारंपरिक दवा निवारक दवाओं से करने के साथ की गई है।

डेनमार्क स्थित आरहुस यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के शोधकर्ताओं ने बताया कि डाइक्लोफेनेक सामान्य बिक्री के लिए उपलब्ध नहीं होनी चाहिए और अगर इसकी सेल होती है, तो उसके पैकेट के आगे के हिस्से पर इसके संभावित जोखिम की विस्तार से जानकारी दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें : शाकाहारी और मांसाहारी दोनों की खास पसंद है गुंडरूक, स्वाद ऐसा है कि चखते ही दीवाने हो जाते हैं लोग

डाइक्लोफेनेक एक पारंपरिक नॉन-स्टेरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग होता है, जिसका इस्तेमाल दुनियाभर में बड़े पैमाने पर दर्द और सूजन के निवारण के लिए किया जाता है। इस रिसर्च में डाइक्लोफेनेक का इस्तेमाल शुरू करने वाले लोगों में हृदय रोग संबंधी जोखिम की तुलना अन्य एनएसएआईडी (NSAID) दवाइयों और पैरासिटामोल के इस्तेमाल करने वालों से की गई है।