बाइकर्स गैंग के बीच हुए गैंगवार के दौरान साथी की पिस्टल से ही अमन को गोली लगी थी। शास्त्रीनगर पुलिस का दावा है कि रिशु सिंह और शुभम युवक अमन की बाइक के पीछे बैठे थे। शुभम के हाथ में ही पिस्टल थी और फायरिंग करने के दौरान गोली अमन को लग गयी। पुलिस ने रिशु और अमन को गिरफ्तार कर लिया है।
शास्त्रीनगर थानेदार विमलेंदु कुमार के मुताबिक बाइकर्स गैंग के बदमाश रंजन और गोलू के साथ अमन का झगड़ा हुआ था। दोनों के बीच गोली चली। अमन की बाइक के पीछे शुभम और रिशु बैठे थे। शुभम ने भी अपने विरोधियों पर गोली चलायी। बकौल थानेदार फायरिंग के दौरान शुभम का हाथ घूम गया और गोली अमन की पीठ में जा लगी।
 
पुलिस टीम को शुरू से ही अमन की पीठ में गोली लगने की बात खटक रही थी। लिहाजा अलग-अलग जगहों पर लगे सीसीटीवी कैमरों के जरिये छानबीन शुरू की गयी। सबसे पहले यह पता चला कि जिस जगह अमन गिरा था यानी पुनाईचक संप हाउस से दौ सौ मीटर पहले उसे गोली लगी थी। शस्त्रीनगर थानेदार के मुताबिक इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि गोली अमन की बाइक के पीछे बैठे उसके दोस्त की पिस्टल से लगी थी।
 
बोरिंग रोड में स्थित एक मार्केट में वर्चस्व को लेकर गोलू और अमन के बीच झगड़ा चल रहा था। इसी कारण गोली चली और गैंगवार हुआ। घटना पर एक नजर इसी साल अक्टूबर माह में शास्त्रीनगर थानांतर्गत पुनाईचक स्थित मोहनपुर संप हाउस के समीप अमन को गोली लगी थी। शुरुआती दौर में यह बात सामने आयी थी कि बाइकर्स गैंग के सदस्यों ने अमन को गोली मार दी। इसके बाद गोलू और रंजन पर अमन के परिजनों ने केस दर्ज कराया था।