मॉस्को। रूस (Russia) ने मंगलवार को कहा कि उसने यूक्रेन के खेरसॉन क्षेत्र (Kherson region of Ukraine) से 223 विदेशी नागरिकों को निकाला है, जबकि यूक्रेन निकासी प्रक्रिया में भाग लेने में अब भी रुचि नहीं ले रहा है। 

यह भी पढ़ें- कोविंद ने 28 महिला हस्तियों को दिया नारी शक्ति पुरस्कार, सभी ने अपने क्षेत्र में दिया है उल्लेखनीय योगदान

राष्ट्रीय केंद्र के प्रमुख लेफ्टिनेंट-जनरल मिखाइल मिजिंत्सेव (Head of the National Center Lieutenant-General Mikhail Mizintsev) ने कहा, 'फिलहाल और यूक्रेनी पक्ष की भागीदारी के बिना क्रीमिया से नोवोरोस्सिय्स्क तक खेरसॉन क्षेत्र के खतरनाक क्षेत्रों से 223 विदेशी नागरिकों को निकालने के लिए मानवीय अभियान पूरा किया जा रहा है। इनमें तुर्की के 188 लोग, मिस्र से 15, इटली से आठ लोग, पाकिस्तान से छह और भारत से पांच, साथ ही एक ब्राजीलियाई नागरिक शामल है। 

यह भी पढ़ें- पति के लक्ष्य को ही नीलम्मा ने बनाई अपनी मंजिल, 17 वर्षों से कब्रिस्तान में दफना रही है शव

उन्होंने कहा कि यह संख्या और बढ़ेगी क्योंकि मानवीय अभियान अब भी जारी है। उन्होंने कहा कि रूसी पक्ष कल कीव द्वारा सभी समझौतों के बार-बार उल्लंघन के बावजूद मानवीय अभियान चलाने के लिए एक और पहल के साथ आया था। 

मिजिंत्सेव ने कहा, 'दुर्भाग्य से, यूक्रेनी पक्ष को प्रस्तावित दस मार्गों कीव, चेर्निहाइव, सुमी, खारकिव और मारियुपोल के प्रत्येक शहर से दो,जबकि रूस के लिए एक, साथ ही पोलैंड, मोल्दोवा के लिए कीव-नियंत्रित क्षेत्रों के माध्यम से और रोमानिया से एक-एक रास्ता बनाने का प्रस्ताव दिया गया था, लेकिन कीव अधिकारियों ने सुमी से पोल्टावा के माध्यम से पोलैंड की सीमा तक केवल एक मार्ग की पुष्टि की।