अरुणाचल प्रदेश के तवांग इलाके में हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए जवानों के शवों को पॉली बैग और गत्ते में रखे जाने की तस्वीरें सामने आने के बाद विवाद शुरू हो गया है। फोटो सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने अपना गुस्सा जमकर सरकार पर उतारा। वहीं मामले को तूल पकड़ता देख सेना को सफाई भी देनी पड़ी है।


इस मामले में सेना ने एक बयान जारी कहा है कि ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लाने ले जाने में काफी दिक्कत होती है, क्योंकि हेलिकॉप्टर पूरा लोड नहीं ले जा पाते। सैनिकों के शवों को बॉडी बैग या ताबूतों की बजाय उपलब्ध स्थानीय संसाधनों में लपेटा गया था। यह असामान्य है। हालांकि, गुवाहाटी बेस हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम के तुरंत बाद उनके शवों को पूरे सैनिक सम्मान के साथ लकड़ी के ताबूतों में रखा गया था। इसके बाद उनके संबंधित परिजनों को भेज दिया गया।




इन सैनिकों के शवों की ये तस्वीरें उस वक्त खींची गई थीं, जब उन्हें गुवाहाटी लाया गया था। सेना ने अपने बयान में कहा कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि शवों को बॉडी बैग, लड़की के बक्से या ताबूतों में ले लाया जाए। शहीदों को हमेशा पूरा सैन्य सम्मान दिया जाता। दरअसलए लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) एचएस पनाग ने इन तस्वीरों को ट्विटर पर साझा किया था। साथ ही उन्होंने लिखा था कि सैनिकों को ऐसे घर लाया गया।


वहीं इन तस्वीरों के सामने आने के बाद क्रिकेटर गौतम गंभीर ने ट्वीट किया, आईएएफ  क्रैश के शहीदों के शव...शर्मनाक! माफ  करना ऐ दोस्त, जिस कपड़े से तुम्हारा कफन सिलना था, वो अभी किसी का बंद गला सिलने के काम आ रहा है।