अंगदान करना एक परोपकार है आप ये जानकर हैरान हो जाओगे कि एक इंसान 100 लोगों का जीवन बचा सकता है। एक अंग से किसी को एक नई जिंदगी दे सकते है| वर्तमान में अंगदान करने की जागरुकता फैल रही है इसीलिए अंगदान करने वालो की संख्या दिन ब दिन बढ़ती ही जा रही है। अभी भी कई लोगों को अंग ना मिल पाने के कारण मौत हो जाती है।


बता दें कि अंगों की कमी नहीं है कमी असल में अंगों को स्टोर करने की है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फ्रिज में स्टोर करने पर लीवर जैसे अंग खराब हो जाते हैं और इस्तेमाल के लायक नहीं रहते है। वैसे तो लीवर को फिलहाल बर्फीले तापमान से कुछ ऊपर रखकर स्टोर किया जाता है। प्रत्यारोपण तकनीक में कई नई खोजें होने के बावजूद भी अंगों को सुरक्षित ढंग से स्टोर नहीं किया जा रहा है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि इनको रखने के तरीके में बीते 30 साल में कोई बदलाव नहीं हुआ है लेकिन अब इसके लिए कोंस्टाटिन कौसियोस और उनकी टीम ने दावा किया है कि अगर लीवर को शरीर के सामान्य तापमान पर ही एक लाइफ सपोर्ट सिस्टम में स्टोर करके रखा जा सकता है जिससे ना तो ये खराब होंगे और सुचारू रूप से चलेंगे। शोधकर्तोओँ का मानना है कि इसको शरीर का सामान्य तापमान 37 डिग्री सेल्सियस पर ही रखा जाये तो यह सुरक्षित हो सकता है|