मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के नगरा थाना क्षेत्र में आज अवैध रेत से भरी ट्रेक्टर ट्राली को पकडऩे के दौरान वन विभाग की टीम में शामिल कर्मचारियों द्वारा चलाई गई गोली से एक ग्रामीण महावीर सिंह तोमर की मृत्यु हो गयी। पुलिस सूत्रों के अनुसार इस घटना के सिलसिले में ग्रामीणों के सख्त विरोध के बीच 09 वन कर्मचारियों के खिलाफ हत्या और बलवा की धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की गयी है। 

आक्रोशित ग्रामीणों ने मृत व्यक्ति के शव को रखकर नगरा डोडरी मार्ग पर करीब चार घंटे तक चक्काजाम किया। ग्रामीणों की मांग थी कि मृतक के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और वन कर्मचारियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाए। सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझाइश दी। 

इसके बाद चक्काजाम समाप्त हो गया। जिला प्रशासन ने मृतक के अंतिम संस्कार के लिये जिला रेडक्रॉस सोसाइटी की तरफ से तात्कालिक सहायता के रूप में बीस हजार रुपये की आर्थिक मदद दी है। जानकारी के अनुसार आज तड़के वन विभाग की टीम अवैध रेत से भरे ट्रेक्टर ट्राली को पकडऩे के लिये पीछा कर रही थी, तभी ट्रेक्टर चालक पकड़े जाने के भय से ट्रेक्टर को लेकर अमोलपुरा गांव में घुस गया। ट्रेक्टर को रोकने के लिये वन कर्मचारियों ने गोली चलाई, जो एक ग्रामीण महावीर सिंह तोमर (45) को लगी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी।