अफगानिस्तान संकट के बीच यूनिसेफ की भविष्यवाणी ने चिंता बढ़ा दी है। यूनिसेफ ने कहा है कि अगर मौजूदा हालात जारी रहे तो अफगानिस्तान में पांच साल से कम उम्र के करीब दस लाख बच्चों को भूखमरी या कुपोषण की स्थिति झेलनी पड़ सकती है।

यूनिसेफ के यूनिसेफ दक्षिण एशिया के क्षेत्रीय निदेशक जॉर्ज लारिया-अडजेई ने कहा कि 22 लाख लड़कियों सहित 40 लाख से अधिक बच्चे अब स्कूल से दूर हो गए हैं। लगभग तीन लाख बच्चे या युवा अपने घरों से भागने को मजबूर हुए हैं। लारिया-अडजेई ने कहा कि बच्चों ने हाल के हफ्तों में बढ़े हुए संघर्ष असुरक्षा की सबसे भारी कीमत चुकाई है। इन बच्चों को न केवल अपने घरों से भागने पर मजबूर होना पड़ा है बल्कि उनके स्कूल छूट गए हैं वे अपने दोस्तों से भी दूर हो चुके हैं। इसके अलावा वे बुनियादी स्वास्थ्य सेवा से भी वंचित हैंं।

उन्होंने कहा कि खाने के संकट के साथ ही कोरोना महामारी और आने वाले सर्दी के मौसम को देखते हुए बच्चों पर यह और भी गंभीर असर डालेगी। बच्चों को खतरा और भी अधिक बढ़ जाएगा। लारिया-अडजेई ने जोर देकर कहा है कि अधिक संसाधनों की सख्त जरूरत है।