दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को बड़ी सफलता हाथ लगी है। फतेहगंज में रह रहे एक लाख के इनामी अंतरराष्ट्रीय तस्कर तस्लीम कुरेशी उर्फ मामू को सेल ने मुरादाबाद हाईवे के नजदीक से 2122 अप्रैल की रात को गिरफ्तार कर लिया।

तस्लीम की गिरफ्तारी आठ मार्च को पकड़े गए मोहम्मद सिकंदर और मोहम्मद उमर की निशानदेही पर हुई है। इन दोनों से पुलिस ने 128 करोड़ रुपये कीमत की 32 किग्रा हेरोइन बरामद की थी, जो तस्लीम उर्फ मामू की थी।


डीसीपी स्पेशल सेल संजीव कुमार यादव के अनुसार तस्लीम गांव भांडुलिया में रहकर मीट की शॉप चलाता था। उसका ममेरा भाई रफीक उर्फ मालिक इस धंधे से जुड़ा था। दो साल पहले वह इंफाल में चार किग्रा स्मैक के साथ गिरफ्तार हुआ था।


कुछ दिन जेल में रहने के बाद वह छूटा था। इसके बाद उसने तस्लीम को अपने साथ जोड़कर मणिपुर से ड्रग्स सप्लाई करने वाले शख्स से मिलवाया था। वहीं के रहने बाले मोहम्मद उमर ब मोहम्मद सिकंदर आठ मार्च को कार से 32 किग्रा स्मैक के साथ गिरफ्तार हुए थे।


उन्होंने पूछताछ में तस्लीम का पता-ठिकाना बताया था। इसके बाद मामू के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करते हुए एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया था। दिल्ली पुलिस लगातार उसके ठिकानों पर दबिश दे रही थी। 22 अप्रैल की रात आखिर कार उसे दबोच लिया।