त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने प्रधानमंत्री के धुआं मुक्त भारत मिशन के तहत अगले 100 दिनों में प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूजी) के तहत शनिवार को एक लाख एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराने की घोषणा की।


इस योजना के जागरुकता अभियान को शनिवार को हरी झंडी दिखाते हुए देब ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना काफी समय पहले से शुरू की थी लेकिन राज्य को अभी तक इस योजना का पूरा लाभ नहीं मिल सका है क्योंकि पिछली सरकार केंद्र सरकार की इस तरह की योजनाओं का प्रचार करने में पूरी तरह से असफल रही है।


देब ने कहा कि राज्य में वर्तमान में 53.68 फीसदी से अधिक घरों में एलपीजी कनेक्शन हैं और कुछ हजार गरीब परिवार के पास इसके कनेक्शन हैं। राज्य के 67 फीसदी से अधिक परिवार गरीबी रेखा से नीचे अपना जीवनयापन कर रहे हैं।


उन्होंने कहा, 'मैंने पहले की इंडियन ऑयल प्राधिकरण से प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत आने वाली गरीब महिलाओं को अगले 100 दिनों के भीतर एक लाख एलपीजी कनेक्शन मुहैया कराने का अनुरोध किया है और आशा करता हूं कि इस लक्ष्य को बड़ी आसानी से हासिल कर लेंगे।'


मुख्यमंत्री ने कहा कि यह योजना को 2016 में शुरू की गयी थी हालांकि त्रिपुरा में सितंबर 2017 में इसे लागू किया गया। उन्होंने सवाल किया कि निवर्तमान वाम सरकार ने इस योजना को लागू करने में क्यों देरी की? प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में जागरुकता बढ़ाने के लिए 50 मोबाइल वाहनों को इस सेवा में लगाया गया है। राज्य में पांच लाख तीन हजार एलपीजी उपभोक्ताओं की सेवा में 63 एलपीजी विरतकों को लगाया गया है।

उन्होंने बताया कि राज्य में उज्ज्वला योजना के तहत अभी तक 44 हजार 623 कनेक्शन जारी किये गये हैं। इस योजना के लिए चार लाख से अधिक परिवार योग्य हैं।