आज के समय में हमारे ज्यादातर काम ऑनलाइन हो रहे हैं। इनमें शॉपिंग भी शामिल है। ऑनलाइन शॉपिंग के लिए भारत में कई सारे प्लेटफॉर्म्स उपलब्ध हैं, जिनका लॉग इस्तेमाल करते हैं। लोकप्रिय प्लेटफॉर्म्स का नाम लें तो Amazon जैसे नाम जहन में आते हैं। लेकिन भारत सरकार ने फैसला किया है कि वो जल्द एक ऐसा ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म लॉन्च करने जा रहे हैं जो देश में अमेजन-वॉलमार्ट के दबदबे को कम कर देंगे।

यह भी पढ़ें : मिजोरम में कोरोना के 83 नए मामले सामने आए, पिछले 24 घंटों में नहीं हुई किसी की मौत

अब भारत सरकार बहुत जल्द एक नया प्लेटफॉर्म, ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स- ओएनडीसी लॉन्च करने जा रहा है। सरकार का यह उद्देश्य है कि भारत के क्रेता-विक्रेता अमेजन और वॉलमार्ट Walmart जैसे विदेशी प्लेटफॉर्म्स की जगह भारतीय प्लेटफॉर्म को प्राथमिकता दें।

ONDC प्लेटफॉर्म के तहत सरकार एक ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार करना चाहती है जिससे इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क के माध्यम से सामान और सेवाओं का एक्सचेंज हो सके। दरअसल, कुछ समय पहले अमेजन और वॉलमार्ट के फ्लिपकार्ट के कुछ भारतीय सेलर्स के खिलाफ एक ‘एंटी-ट्रस्ट’ रेड की गई थी। इसी के चलते सरकार ने भारत का अपना प्लेटफॉर्म लॉन्च करने का फैसला लिया।

यह भी पढ़ें : इंडियन आर्मी मणिपुर में स्थापित करेगी 'रेड शील्ड सेंटर', जानिए क्या होगा फायदा

खबर है कि ONDC को फिलहाल देश के पांच शहरों, दिल्ली एनसीआर, बेंगलुरू, भोपाल, शिलॉन्ग और कोयम्बटूर में लॉन्च किया जा रहा है। आने वाले समय में इसे बाकी देशों में भी उपलब्ध करा दिया जाएगा। Reuters की एक रिपोर्ट के हिसाब से इस प्लेटफॉर्म पर करीब 30 मिलियन सेलर्स और 10 मिलियन मर्चन्ट्स होंगे। सरकार का यह प्लान है कि अगस्त, 2022 तक उनका यह प्लेटफॉर्म देश के कम से कम 100 शहरों को अपने आप से जोड़ सके।

क्षेत्रीय भाषाओं को भी इस प्लेटफॉर्म का हिस्सा बनाया जाएगा। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक और बैंक ऑफ बरोड़ा ने कुल मिलाकर 2-55 बिलियन रुपये के कुल निवेश के लिए रजामंदी भी दे दी है।