आईआईटी कानपुर (आईआईटी-के) के शोधकर्ताओं ( IIT-K study) ने अनुमान लगाया है कि कोरोना महामारी की तीसरी लहर 3 फरवरी 2022 तक भारत में चरम पर होगी, क्योंकि नए कोरोना ओमिक्रॉन वेरिएंट (omicron in india) के मामले बढ़ रहे हैं। ऑनलाइन प्रीप्रिंट हेल्थ सर्वर मेडआरएक्स (Preprint Health Server MedRx) में प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर के रुझानों के बाद इस प्रोजेक्ट रिपोर्ट का अनुमान है कि भारत की तीसरी लहर (third wave of corona) दिसंबर के मध्य में शुरू हो सकती है और फरवरी की शुरूआत में चरम पर हो सकती है।

टीम ने तीसरी लहर (third wave of corona) का अनुमान लगाने के लिए गॉसियन मिक्सचर मॉडल (Gaussian Mixture Model) नामक एक सांख्यिकीय उपकरण का इस्तेमाल किया है। शोध रिपोर्ट में देश में संभावित तीसरी लहर का अनुमान लगाने के लिए भारत में पहली और दूसरी लहरों के डेटा और कई देशों में ओमिक्रॉन के मामलों में आई वर्तमान वृद्धि का उपयोग किया गया है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि अध्ययन के अनुसार, शुरूआती तारीख 30 जनवरी, 2020 से 735 दिनों के बाद मामले बढ़ गए थे, जब भारत ने कोरोना (Corona cases in india) के अपने पहले आधिकारिक मामले की सूचना दी थी। इसलिए कोरोना के मामले 15 दिसंबर, 2021 के आसपास बढ़ने लगे हैं और यह तीसरी लहर का चरम गुरुवार 3 फरवरी 2022 को होगा। गणित और सांख्यिकी विभाग आईआईटी-के से तैयार की गई शोध टीम में सबरा प्रसाद राजेशभाई, सुभरा शंकर धर और शलभ शामिल हैं।