कोरोना वायरस के कहर के बीच ही केंद्र सरकार ने जम्मु-कश्मिर के लिए एक ऐलान किया है किया है जिसकी पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) ने जमकर आलोचना की है। आपको बता दें कि जम्मू कश्मीर के नए डोमिसाइल नीति को लेकर केंद्र की उमर ने आलोचना की है। उन्होंने कहा कि ऐसे में पीड़ित लोगों का अपमान है, क्योंकि वादे के मुताबिक कोई संरक्षण नहीं दिया जा रहा है। 

उमर ने ट्वीट में कहा कि जब हमारे सभी प्रयास और पूरा ध्यान 'कोविड-19' के संक्रमण को फैलने से रोकने पर होना चाहिए, तब सरकार जम्मू कश्मीर में नया डोमिसाइल कानून लेकर आई है इसका मतलब और उद्देश्य आखिर क्या है। यह पहले से लगी चोट को और गंभीर कर देता है। उमर ने कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि नया कानून इतना खोखला है कि ''दिल्ली के वरदहस्त प्राप्त' नेता भी इसकी आलोचना करने के लिए मजबूर हैं। 

उन्होंने कहा कि दिल्ली के इशारे पर बनी नयी पार्टी के वे नेता भी इसकी आलोचना करने पर मजबूर हैं, जो इस कानून के लिए दिल्ली में लॉबिंग कर रहे थे। जानकारी के लिए बता दें कि सरकार ने एक गजट अधिसूचना जारी कर जम्मू कश्मीर के 138 अधिनियमों में कुछ संशोधन करने की घोषणा की और इनमें ग्रुप-4 तक की नौकरियां सिर्फ केंद्र शासित प्रदेश के मूल निवासियों के लिए संरक्षित रखना भी शामिल है। 


Inside Story

पॉपुलर खबरें