आज के समय मे पुराने सिक्के व नोट की खरीदी-बिक्री का चलन तेज हुआ है। कई ऑनलाइन और ऑफलाइन प्लेटफॉर्म हैं जहां पुराने बैंक नोट और सिक्के बेचे जा रहे हैं। लेकिन RBI ने इसे लेकर जरूरी सूचना जारी की है। RBI ने कहा कि कुछ धोखाधड़ी करने वाले कुछ तत्व ऑनलाइन, ऑफलाइन प्लेटफॉर्म पर पुराने बैंक नोट और सिक्कों की बिक्री के लिए केंद्रीय बैंक के नाम और लोगो का इस्तेमाल कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में बाढ़ और भूस्खलन से 29 लोगों की दर्दनाक मौत

रिजर्व बैंक ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर यह जानकारी दी और कहा, भारतीय रिजर्व बैंक के संज्ञान में यह बात सामने आई है कि कुछ तत्व गलत तरीके से भारतीय रिजर्व बैंक के नाम और लोगो का इस्तेमाल कर रहे हैं और विभिन्न ऑनलाइन, ऑफलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए पुराने बैंक नोट और सिक्कों को बेचने के लिए लोगों से शुल्क/ कमीशन या टैक्स मांग रहे हैं।'

रिजर्व बैंक ने कहा है वह इस तरह की किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं है और इस तरह के ट्रांजैक्शन के लिए किसी से कोई शुल्क या कमीशन कभी नहीं मांगेगा। साथ ही बैंक ने कहा है कि उसने किसी संस्था या व्यक्ति को इस तरह की गतिविधियों के लिए किसी तरह का कोई प्राधिकार नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें : गृहमंत्री अमित शाह ने युवाओं को सभी क्षेत्रों में सक्षम बनाने की बनायी नीति

बता दें कि आरबीआई इस तरह के मामलों में डील नहीं करता है और ना ही कभी किसी से इस तरह के शुल्क या कमीशन मांगता है। बैंक ने कहा, 'भारतीय रिजर्व बैंक ने किसी संस्था, कंपनी या व्यक्ति इत्यादि को इस तरह के ट्रांजैक्शन पर रिजर्व बैंक की ओर से शुल्क या कमीशन लेने के कोई अथॉरिटी नहीं दी है। भारतीय रिजर्व बैंक आम लोगों से इस तरह के जाली और धोखाधड़ी वाले ऑफर्स के झांसे में नहीं आने की सलाह देता है।'