असम में लगातार बेरोजगारों की संख्या में इजाफा हो रहा है। यह बात राज्य के ताजा आर्थिक सर्वेक्षण (2018-19) में सामने आई है। एंप्लायमेंट एक्सचेंज के लाइव रजिस्टर के आंकड़ों से यह बात साबित होती है। ताजा आर्थिक सर्वेक्षण में शिक्षित बेरोजगारों की संख्या काफी अधिक है। आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि यह राज्य की बढ़ती अर्थव्यवस्था के प्रति चुनौती है।

वर्ष 2016 शिक्षित रोजगार मांगने वालों की संख्या 1642718 थी, जो कि बढ़कर वर्ष 2017 में 1665866 हो गई। यह वर्ष 2017 में पिछले की तुलना में 1.41 प्रतिशत है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि कुल रोजगार चाहने वालों में से शिक्षित रोजगार मांग करने वालों का प्रतिशत 85 है।

वर्ष 2017 में इंजीनियरिंग स्नातक, मेडिकल स्नातक, कृषि स्नातक, पशुपालन स्नातक, आईटीआई उत्तीर्ण, स्नातोकोत्तर, डिप्लोमाधारी बेरोजगारों के पंजीकरण की संख्या में इजाफा हुआ है। शिक्षित रोजगार मांगने वालों का कुल पंजीकरण पिछले सालों की तुलना में देखा जाए तो 12 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है।

वर्ष 2017 में 1589 इंजीनियरिंग स्नातकों, 91 मेडिकल स्नातकों, 28 कृषि स्नातकों, 41 पशु स्नातकों, 16450 आईटीआई उत्तीर्णों, 2864 स्नातकोत्तर उत्तीर्णों, 31183 स्नातकों, 78068 हायर सेकेंड्री उत्तीर्णों, 57511 मैट्रिक उत्तीर्णों, 424 डिप्लोमाधारी और अन्य 5690 ने एंप्लॉयमेंट एक्सचेंज में पंजीकरण कराया। यानि कुल 197756 ने पंजीकरण कराया। जबकि 2016 में इनकी संख्या 134521 थी।