असम में एनआरसी लागू होने के बाद देशभर में इसको लेकर राजनीतिक घमासान तेज हो गया है। एनआरसी के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार पर बरसे माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि असम के बाद अब अन्य किसी भी राज्य में एनआरसी लागू नहीं होगा और अगर इसे जोर जबर्दस्ती लागू करने की कोशिश की गई तो माकपा समेत अन्य वामपंथी दल इसका सड़क पर उतर पूरजोर तरीके से विरोध करने को अग्रसर है।


उन्होंने कहा कि भाजपा एनआरसी के जरिए एक धर्म विशेष के लोगों को निशाना बनाने की कोशिश कर रही है, ताकि पश्चिम बंगाल में धर्म-जाति के नाम पर लोगों को विभक्त कर सियासी रोटी सेंकी जा सके। लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। आगे उन्होंने कहा कि राज्य की ममता सरकार व केंद्र की मोदी सरकार के अनैतिक निर्णयों व नीतियों के खिलाफ माकपा समर्थक व नेता राज्य के जिलों में सक्रिय हो लोगों को मौजूदा हकीकत से अवगत कराने में लगे हैं और उन्हें उम्मीद है कि लोग उनकी बातों को समझेंगे और आगामी विधानसभा चुनाव में इन दोनों ही दलों को दरकिनार करने का काम करेंगे।


इसके अलावा नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत विनायक बंद्योपाध्याय के खिलाफ भाजपा नेताओं की टिप्पणी पर उन्होंने कहा कि जो उनके मन में है वहीं भाजपा के नेताओं ने व्यक्त किया है, जिसे राज्य ही नहीं, बल्कि देश की जनता ने सुना व देखा है। ऐसे में भारत के गौरव को अपमानित करने वालों को जनता ही वोट के जरिए जवाब देगी।