नेशनल पेंशन सिस्टम के खाते से पैसा निकालना अब बेहद आसान हो गया है। ऐसे में अब अगर खाते से रकम निकालने की सोच रहे हैं तो कुल जमा की हुई राशि का 25 फीसदी अंशदान जरूरत के लिए निकाल सकते हैं। केवल पांच दिनों में आपके बैंक खाते में यह राशि ट्रांसफर हो जाएगी। पेंशन फंड रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ने यह बदलाव किया है।

- तीन साल पुराने खाते से ही पैसा निकल सकता है।
- कुल राशि का केवल 25 फीसदी राशि निकालने की सुविधा
- नोडल ऑफिस को करना होगा लिखित आवेदन
- आवेदन के साथ ही देना होगा सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट्स
- सेल्फ डिकलेरेशन देने की सुविधा
- ऑफलाइन के साथ ही ऑनलाइन निकासी की सुविधा

ऐसे निकाल सकेंगे ऑनलाइन पैसे
पहले सीआरए की वेबसाइट पर जाएं। यहां यूजर आईडी और पासवर्ड के जरिए लॉगिन करें। अब जो पेज खुलेगा उसमें पार्टियल विड्राॅल का विकल्प चुनें। आप कितनी रकम निकाल सकते हैं वह आपकी स्क्रीन पर दिख जाएगी। निकासी के कारणों की जानकारी दें।

उसके बाद सेल्फ डिक्लेरेशन का काम पूरा करना है। प्रक्रिया पूरी होने के बाद रिक्वेस्ट सबमिट करना होता है। सबमिट करने से पहले बैंक अकाउंट डिटेल क्रॉस चेक कर लें। ओटीपी के जरिए आगे की तमाम प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। जिस दिन यह प्रक्रिया पूरी की जाएगी उस दिन को छोड़ कर 5 वर्किंग डे के भीतर आपके अकाउंट में पैसे आ जाएंगे।

पत्नी को इनडिपेंडेंट बनाने के लिए आप उसके नाम एनपीएस अकाउंट खोल सकते हैं। एनपीएस अकाउंट आपकी वाइफ को 60 साल की उम्र पूरी होने पर एकमुश्त रकम देगा। साथ ही हर महीने उन्‍हें पेंशन के रूप में रेगुलर इनकम भी प्राप्त होगी। एनपीएस अकाउंट के साथ आप यह भी तय कर सकते हैं कि आपकी वाइफ को हर महीने कितनी पेंशन मिलेगी। इससे आपकी वाइफ 60 साल की उम्र के बाद पैसों के लिए किसी पर भी निर्भर नहीं रहेगी।

आप एनपीएस अकाउंट में अपनी सुविधानुसार हर महीने या सालाना पैसा जमा कर सकते हैं। आप 1000 रुपये से भी पत्नी के नाम पर एनपीएस अकाउंट खोल सकते हैं। 60 वर्ष की उम्र में एनपीएस अकाउंट मैच्योर हो जाता है। नए नियमों के तहत आप चाहें तो वाइफ की उम्र 65 साल होने तक एनपीएस अकाउंट चलाते रहें।