रेल यात्रियों के लिए राहत की खबर है। आपने लॉकडाउन के दौरान ट्रेन के टिकट की बुकिंग करवा रखी थी और ट्रेनों का संचालन निरस्त होने पर यात्रा न कर पाए तो रिफंड के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। इसके लिए रेलवे प्रशासन ने रिफंड के नियम में बदलाव किए हैं। इसके तहत यात्रा की तिथि से 3 माह के अंतराल में यात्री टिकट का रिफंड ले सकता है। 

इससे पहले बीते 23 मार्च को रेलवे ने कैंसिल टिकट का भुगतान लेने की समय सीमा को बढ़ाते हुए 3 महीने तक कर दिया था। उससे पहले 72 घंटे के अंदर रिफंड लेना पड़ता था। जिन यात्रियों ने रेलगाड़ियों का टिकट ऑनलाइन कटाया है, उनका रिफंड जिस खाते से भुगतान हुआ, उसी में चला जाएगा। जिन्होंने काउंटर से टिकट कटाया है तो उन्हें टिकट कैंसिल करवाने के लिए काउंटर पर ही जाना होगा। ऐसे में लॉकडाउन खुलने के बाद काउंटर पर भीड़ ना बढ़े, इसके लिए ही टिकट कैंसिल करवाने की समय सीमा बढ़ा दी गई है।

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अभय शर्मा का कहना है कि लॉकडाउन के चलते ट्रेनों का संचालन निरस्त है। इसके दोबारा शुरू करने, बुकिंग किराए आदि निर्णय बोर्ड लेगा। अभी ऐसा कुछ भी तय नहीं हुआ है। यात्रियों से अपील है कि संचालन या किराए में बढ़ोतरी समेत अटकलों पर ध्यान न दें।