टेकफैब इंडिया के निदेशन पीके माधवन ने टेक्निकल टेक्सटाइल जैसे जीआे टेक्सटाइल आैर जूट बैग के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जतार्इ है। तो वहीं टीटी लि. के अध्यक्ष संजय कुमार जैन ने कहा कि अगर राज्य सरकार हमें ढांचागत सुविधाएं उपलब्ध करवाती है तो उनकी कंपनी तुरंत यहां टीटी गारमेंटस का उत्पादन शुरू कर देगी। इसके साथ ही जापान की कंपनी निकोने हैंडीक्राफ्ट रासानीकोने नानोंग ने भी सिल्क के क्षेत्र में असम में काम करने की इच्छा जाहिर की है।


दो दिवसीय वैश्विक सम्मेलन में रविवार को राज्य के हथकरघा, वस्त्र तथा रेशम डिपार्टमेंट के मंत्री रंजीत दास ने हथकरघा आैर वस्त्र विशेष पर आयोजित सत्र काे संबोधित करते हुए कहा कि असम में हथकरघा आैर वस्त्र के क्षेत्र में निवेश करने की अपार संभावनाएं है। साथ ही यह भी कहा कि राज्य सरकार दोनों हाथ खोल कर निवेशकों को आमंत्रित कर रही है।
 
इसके बाद सत्र में भाग लेते हुए केंद्र के हथकरघा आैर वस्त्र विभाग के अधिकारी एस बंद्योपाध्याय ने इस क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा किए गए योगदान की जानकरी दी। इसी के दौरान विभाग के आयुक्त आैर सचिव मुक्ति गोगोर्इ ने इस बारे में कर्इ सुझााव दिए। ताे वहीं सत्र में भाग लेते हुए फेबरिक प्लस के प्रबंध निदेशक दिलीप बरूआ ने बताया कि कपड़ा क्षेत्र में किस प्रकार की लहर चल रही है।
आपको बता दें शनिवार 3 फरवरी से 4 फरवरी रविवार तक चलने वाले इस दो दिवसीय कार्यक्रम में राज्य के निर्माण अवसरों की उपलब्धता को प्रमुखता दी गर्इ। ये असम का पहला वैश्विक निवेशक सम्मेलन था।