राशन की दुकान में बदलाव होने वाला है, क्योंकि अब राशन की दुकानों पर अनाज बिक्री के साथ ही कई अन्य सुविधाएं भी मिलेंगी. अभी तक राशन की दुकानों पर सिर्फ अनाज या सरकारी सामग्री जैसे तेल आदि मिलते थे, लेकिन अब सीएससी से जुड़ी सर्विस का फायदा भी इन दुकानों से उठाया जा सकेगा.

दरअसल, खाद्य मंत्रालय ने राशन दुकानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विस इंडिया लि. (सीएससी) के साथ एक करार किया है. इससे ना सिर्फ आम लोगों को फायदा होगा, जबकि जिन लोगों के नाम राशन की दुकानें अलॉट हैं, उनके लिए कमाई के अवसर बढ़ने वाले हैं. एक बार सीएससी सर्विस शुरू होने के बाद ग्राहकों से जुड़ी अतिरिक्त सुविधाएं मसलन बिजली, पानी सहित अन्य यूटिलिटी बिलों का भुगतान जैसे सुविधाओं का फायदा इन दुकानों से उठाया जा सकेगा. यानी इसके बाद आप अपने घर का बिल राशन की दुकान से जमा कर सकेंगे.

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, खाद्य और सार्वजनिक वितरण विभाग ने सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लि. के साथ मॉडल सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर साइन किए हैं. बताया जा रहा है कि इस एमओयू का मकसद इच्छुक उचित दर दुकान डीलरों के जरिए सीएससी सेवाओं की आपूर्ति से राशन दुकानों के लिए कारोबारी अवसर और आमदनी बढ़ाना है. इस एमओयू पर उप सचिव (पीडी) ज्योत्सना गुप्ता और सीएससी के उपाध्यक्ष सार्थिक सचदेव ने हस्ताक्षर किए.

ऐसे में अब राशन की दुकानों को सीएससी सेवा केन्द्रों के तौर पर विकसित किया जा सकता है. ऐसे सीएससी केन्द्रों को अपनी सुविधा से अतिरिक्त सेवाओं का चयन करने को कहा जाएगा. इनमें बिल का भुगतान, पैन आवेदन, पासपोर्ट का आवेदन करना, चुनाव आयोग से जुड़ी सेवाएं आदि शामिल हैं. ग्राहक को पास की राशन दुकान पर ये सेवाएं उपलबध होंगी और दूसरी तरफ इन दुकानों को अतिरिक्त आय का सोर्स भी मिलेगा.