उत्तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh government) ने झांसी रेलवे स्टेशन का नाम वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन ( Veerangana Laxmibai railway station) के नाम पर करने का निर्णय लिया है. इस संबंध में समस्त औपचारिकता करने के लिए अधिसूचना जारी कर दी गई है. अगले कुछ दिनों बाद झांसी नाम इतिहास बन जायेगा.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार पहले ही तीन प्रमुख स्थानों- इलाहाबाद से प्रयागराज, मुगलसराय को दीन दयाल उपाध्याय नगर और फैजाबाद से अयोध्या कर चुकी है. एक बार फिर योगी सरकार एक नाम बदलने जा रही है. हालांकि इस बार इलाहाबाद और फैजाबाद के विपरीत शहर, झांसी का नाम बदलने का कोई प्रस्ताव नहीं है.

रेलवे स्टेशन का नाम बदलने का प्रस्ताव

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) संकेत देते रहे हैं कि राज्य सरकार जहां भी आवश्यक होगी, नाम परिवर्तन के साथ आगे बढ़ेगी. लोक सभा में सरकार की तरफ से दी गई जानकारी से आज एक बार फिर इस बात पर मुहर लग गई. उत्तर प्रदेश सरकार ने झांसी रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन करने के लिए केंद्र को प्रस्ताव भेजा था. जिसे मंजूरी मिल गई है.

ये है नाम बदलने की पूरी प्रक्रिया

झांसी रेलवे स्टेशन का नाम वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन करने का प्रस्ताव मिलने के बाद तय प्रक्रिया के अनुसार केेंद्रीय गृह मंत्रालय संबंधित एजेंसियों की टिप्पणियां और विचार आमंत्रित किये गये हैं. उन्होंने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि संबंधित एजेंसियों से विचार मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. गौरतलब है कि किसी स्थान या स्टेशन का नाम बदलने की स्वीकृति केंद्रीय गृह मंत्रालय देता है. रेल मंत्रालय और डाक व भारतीय सर्वेक्षण विभागों से एनओसी मिलने के बाद इसके लिए स्वीकृति दी जाती है.