वॉशिंगटन। अमेरिकी ऊर्जा कंपनी एक्सॉन मोबिल (American energy company Exxon Mobil) ने कहा है कि यूक्रेन में जारी रूसी सैन्य अभियान के जवाब में वह रूस में अपनी सखालिन-1 परियोजना का काम बंद कर देगी और रूसी विकास में निवेश भी समाप्त कर देगी। 

यह भी पढ़ें- 6 मई को तैयार रहें, खुलेंगे भगवान शिव के 5वें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ धाम के कपाट

कंपनी ने मंगलवार को जारी में कहा, 'एक्सॉन मोबिल जापानी, भारतीय और रूसी कंपनियों के एक अंतरराष्ट्रीय संघ की ओर से सखालिन-1 परियोजना का संचालन करता है। हाल की घटनाओं को देखते हुए, हम संचालन बंद करने की प्रक्रिया शुरू कर रहे हैं।' बयान में कहा गया कि मौजूदा स्थिति के कारण कंपनी रूस के नए विकास कार्यों में निवेश नहीं करेगी। 

वहीं, संयुक्त राष्ट्र (UN) में रूस के स्थायी सदस्य गेन्नेडी गैटिलोव ने कहा है कि पश्चिमी और पूर्वी यूरोप से परमाणु हथियार वापस लेने का समय आ गया है। गैटिलोव ने मंगलवार को लेबनान के प्रसारक अल-मायादीन से कहा, 'पश्चिमी और पूर्वी यूरोप सहित अन्य स्थान से परमाणु हथियार हटाने का समय सही है।' 

यह भी पढ़ें- मणिपुर विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 84.45 फीसदी मतदान हुआ

उन्होंने कहा कि अमेरिकी सैन्य ठिकाने रूस की सुरक्षा के लिए खतरा हैं और मॉस्को लंबे समय से मांग कर रहा है कि वाशिंगटन इन हथियारों को रूस की सीमाओं से हटा दें। रूसी राजनयिक ने कहा कि अमेरिका संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद या संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से रूस को बाहर नहीं कर पाएगा।