भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने आधार कार्ड को लेकर बड़ा बयान दिया है। यूआईडीएआई ने कोरोना वैक्सिनेशन के लिए आधार कार्ड को जरूरी नहीं बताया है। यूआईडीएआई ने कहा है कि आधार कार्ड न होने पर किसी को वैक्सीन से वंचित नहीं किया जा सकता है। इसके अलवा बयान में कहा गया है कि किसी भी मरीज को दवा, अस्पताल में भर्ती करने से या इलाज करने से सिर्फ इंकार नहीं किया जा सकता है कि क्योंकि उनके पास आधार कार्ड नहीं है।

UIDAI ने ये कहा
यूआईडीएआई ने एक बयान में कहा कि आधार कार्ड के लिए एक्सेप्शन हैंडलिंग मैकेनिज्म (ईएचएम) स्थापित है जिसका 12 अंकों के बायोमेट्रिक आईडी के अभाव में सुविधा और सर्विसेज की डिलीवरी तय करने के लिए इसका पालन किया जाना चाहिए।

इन जरूरी सुविधाओं से नहीं कर सकते मना
यूआईडीएआई ने कहा है, ''किसी भी व्यक्ति को आप जरूरी सामान सिर्फ इसलिए नहीं दे रहे हैं कि उसके पास आधार कार्ड नहीं है तो उसके लिए आधार एक कारण नहीं बनना चाहिए। आधार के बिना भी जरूरी काम और सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता है।''

UIDAI का बयान मायने रखता है
देश में कोरोना महामारी के बीत यूआईडीएआई का यह बयान काफी मायने रखता है। अगर किसी के पास आधार नहीं है या किसी कारण से आधार ऑनलाइन वेरिफिकेशन सफल नहीं हो पाता है तो संबंधित एजेंसी या विभाग को आधार अधिनियम, 2016 में निर्धारित विशिष्ट मानदंडों के अनुसार सेवा प्रदान करनी होगी।