छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के नेशनल स्कूल गेम में हिस्सा लेने पहुंची असम की टीम के खिलाड़ियों की तबियत बिगड़ने लगी है। टूर्नामेंट शुरू होने के पहले ही दिन पांच बच्चे अस्पताल में भर्ती हुए थे। शु्क्रवार सुबह भी दो बच्चों को उल्टियां होने लगी थी। इन्हें भी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल ले जाया गया था, जहां पर प्राथमिक इलाज के बाद छुट्‌टी दे दी गई। तबियत बिगड़ने की सबसे बड़ी वजह उनकी पसंद का भोजन नहीं मिलना है।

मनपसंद भाेजन न मिलने पर खराब हुर्इ तबियत
असम के लोग उबला हुआ भोजन करते हैं पर राजनांदगांव के किसी भी होटल में ऐसा भोजन नहीं परोसा जाता। टीम के कोच ने सेंट्रल मेस में संपर्क किया था। टीम के एचओडी रंजीत गोगोई ने बताया कि खुद का मेस संचालन करने के लिए कुक की तलाश किए पर कोई नहीं मिले। सेंट्रल मेस में संपर्क किया गया पर वहां ब्वॉयल वाला भोजन नहीं मिला। अस्पताल में उपचार के बाद शुक्रवार को छुट्‌टी हो गई पर सुबह दो और बच्चों को ऐसी ही शिकायत होने पर भर्ती कराया गया था, इन्हे भी छुट्‌टी मिल गई है।
सीएमएचओ डॉ. मिथलेश चौधरी ने बताया कि वेसलियन हिंदी मीडियम स्कूल में विवेक कुमार भावे, वेसलियन अंग्रेजी माध्यम स्कूल में दिलीप कुमार रामटेके, लक्ष्मी बाई स्कूल में मनीष कलिहारी, युगांतर पब्लिक स्कूल रुपनारायण साहू, शंकरपुर स्कूल में माधव दास साहू, नीरज स्कूल में नरेन्द्र कुमार साहू, सरस्वती शिशु मंदिर में धर्मेन्द्र श्रीमाली, साई सेंटर में एनएल नेताम, रायल किड्स कॉन्वेंट में पितांबर साहू व स्टेट हाईस्कूल में मुकेश साहू की ड्यूटी लगाई गई है।