अब ऐसा कोरोना वायरस मास्क आया है जिसें नाक पर पहना जाता है और आसानी से खा पी सकते हैं। इस मास्क को मेक्सिको के शोधकर्ताआों ने बनाया है। इस मास्क को सिर्फ नाक वाला मास्क (Nose Only Mask) या खाने वाला मास्क (Eating Mask) नाम दिया गया है।

इस मास्क से आपकी नाक पूरी तरह से कवर रहती है, लेकिन इससे आप कोरोनावायरस संक्रमण से कितने बचे रहेंगे इस संशय है। क्योंकि आपका मुंह खुला रहेगा। इससे फायदा इतना है कि खाते-पीते समय आपको मास्क उतारने की जरूरत नहीं है। अतिरिक्त सुरक्षा के लिए आप इसके ऊपर एक  सामान्य मास्क लगा सकते हैं।

कोरोनावायरस एक रेस्पिरेटरी बीमारी है यानी सांस संबंधी बीमारी है। इसका वायरस हवा में तैर रही तरल बूंदों के जरिए आपके नाक से होते हुए फेफड़ों तक पहुंच जाता है। अगर कोई संक्रमित व्यक्ति खुली हवा में खास दे, छींक दे या खुली नाक से सांस ले तो वो कई लोगों को संक्रमित कर सकता है। इसलिए सभी लोगों के लिए मास्क लगाना जरूरी है। लेकिन मास्क की वजह से कई लोगों को दिक्कत भी होती है।

जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक वो कोशिकाएं (Cells) जो इंसानों को सूंघने की क्षमता प्रदान करती हैं, वो भी कोरोनावायरस संक्रमण का माध्यम बन सकती हैं। इसलिए सबसे ज्यादा जरूरी है नाक का ढके रहना ताकि अगर जाने-अनजाने में किसी कोरोना संक्रमित से मिले तो आप मास्क न लगाने की लापरवाही से बच सकें। बीमार न हो।

इस मास्क को लेकर काफी चर्चा हो रही है। सोशल मीडिया पर कुछ लोग इसे जोकर की लाल रंग की नाक कह रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि ये कोई नया इनोवेशन नहीं है। इसे जोकर बरसों से पहनते आ रहे हैं। वहीं, किसी ने कहा कि ये जरूर थोड़ा सा विचित्र दिख रहा है लेकिन सालभर पहले सामान्य मास्क भी सबके चेहरे पर अजीब दिखता था। इसकी भी आदत पड़ जाएगी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने निर्देश जारी किया है कि कोरोनावायरस से बचने के लिए नाक, मुंह और ठुड्डी तक ढकने वाला मास्क लगाएं। वहीं, अमेरिका के CDC ने कहा है कि कई लेयर वाला मास्क आपको कोरोनावायरस से बचा सकता है। साथ ही संक्रमण की दर को कम कर सकता है।

CDC के मुताबिक अमेरिका में करीब 3 करोड़ लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इसके अलावा 5.44 लाख लोगों की जान जा चुकी है। इतनी गंभीर स्थिति के बावजूद दुनिया भर में लोग मास्क लगाने का विरोध भी करते आए हैं। कुछ लोगों ने तो मास्क लगाया ही नहीं। मास्क लगाने के मुद्दे का राजनीतिकरण किया गया। इसमें सबसे आगे थे अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप।

अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन ने आते ही मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया। बाइडेन ने कहा कि लोग सार्वजनिक स्थानों पर मास्क जरूर लगाएं। भारत समेत कई देशों में तो मास्क न लगाने पर जुर्माने तक के नियम बनाए गए हैं। राजधानी दिल्ली में तो न जाने कितने लोगों ने मास्क न लगाने पर जुर्माना दिया है।