स्काईमेट वेदर रिपोर्ट के मुताबिक अगले 24 घंटों में मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हो सकती है। वहीं पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान में शीतलहर जारी रह सकती है। यही नहीं कई मैदानी इलाके वाले राज्यों जैसे राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश में पाला पड़ने की भी संभावना जताई गई है।

मौसम वैज्ञानिकों ने दो फरवरी को घाटी में ताजा पश्चिमी विक्षोभ के दस्तक देने का पूर्वानुमान लगाया है। पश्चिमी विक्षोभ के दस्तक देने के बाद उत्तर भारत में तापमान में बढ़ोत्तरी हो सकती है, जिसके बाद लोगों को शीतलहर से राहत मिल सकती है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान के 4 डिग्री सेल्सियस से कम होने पर शीत लहर की घोषणा की जाती है। वहीं जब तापमान 2 डिग्री सेल्सियस या उससे भी कम हो जाए तो भीषण शीत लहर घोषित की जाती है।

इससे पहले दिल्ली मंगलवार को भी शहर शीत लहर की चपेट में ही थी, क्योंकि न्यूनतम तापमान 2.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज की गई थी, जो कि सामान्य तापमान से 7 डिग्री सेल्सियस कम है। विभाग के मुताबिक आज भी शहर में शीत लहर की स्थिति बनी रहने की संभावना है और न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है। वहीं राजस्थान में ज्यादातर इलाकों में कड़ाके की सर्दी जारी है। विभाग के अनुसार राज्य के अनेक हिस्सों में सर्दी का दौर जारी रहेगा। विभाग ने अगले 24 घंटे में अलवर, भीलवाड़ा, भरतपुर, चित्तौड़गढ़, झुंझुनू, सीकर, उदयपुर जिलों में शीत लहर से अति शीत लहर का अनुमान लगाया है। वहीं भीलवाड़ा, सीकर, झुंझुनूं, चित्तौड़गढ़ जिले में कुछ जगह पाला पड़ने की संभावना जताई है।