घूमने का शौक रखने वाले नई-नई जगहों को एक्सप्लोर करते रहते हैं। घूमने का शौक रखने वालों के लिए नार्थ ईस्ट भी किसी अन्य राज्य से कम नहीं है। हम आपको कुछ एसी जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां की खूबसूरती सभी को अपनी ओर आकर्षित करती हैं।

सिक्किम, असम, मेघालय, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम भारत के नार्थ ईस्टर्न राज्यों में आते हैं। अगर आपको नेचुरल ग्रीनरी और पहाड़ पसंद हैं तो इस बार छुट्टियों में आप भारत के नार्थ ईस्टर्न पार्ट को विजिट कीजिये। आज हम आपको यहां स्थित कुछ ऐसी ही जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं।

चेरापूंजी-

दुनिया की सबसे ज्यादा बारिश वाली जगह चेरापूंजी अपनी नेचुरल खूबसूरती के लिए भी उतना ही फेमस है, यहां आपको लिविंग रुट ब्रिज भी देखने को मिलेंगे जो लोकल लोगो के इंजीनियरिंग जीनियस का बेहतरीन नमूना हैं। यहां पानी के किनारे कैंपिंग भी की जाती है। अक्टूबर से मई का टाइम यहाँ घूमने के लिए बेहतर रहेगा।

दाम्पा टाइगर रिजर्व-

मिजोरम में यह लगभग साढे पांच सौ वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। आइजोल से यहां पहुँचने के लिए कई साधन आपको मिल जायेंगे। नवंबर से मई का टाइम यहां घूमने के लिए सूटेबल है।


काजीरंगा नेशनल पार्क-

असम में बना हुआ यह नेशनल पार्क एक सींग वाले राइनो के लिए बहुत फेमस है। यहाँ पहुँचने के लिए आप गुवाहाटी या जोरहाट से डायरेक्ट फ्लाइट ले सकते हैं। यहाँ घूमने के लिए नवंबर फरवरी और अप्रैल बेस्ट टाइम है।


तवांग मोनेस्ट्री-

अरुणाचल प्रदेश में बौद्ध भिक्षुओं का यह एक पवित्र स्थान है। तवांग नदी के किनारे लगभग दस हजार फीट की ऊंचाई पर बनी यही मोनेस्ट्री बहुत ही शांती और खूबसूरती लिए हुए है। चांदनी रात में यहाँ आसमान को निहारते रहना एक अलग ही एक्सपीरीेएंस है। यहाँ के लिए असम के तेजपुर से डायरेक्ट फ्लाइट है।



नाथू ला पास-

भारत और सिक्किम के बॉर्डर से लगता हुआ यह पास ट्रैकिंग के लिए भी बहुत ही अच्छी लोकेशन है। ज्यादा ऊंचाई पर होने और बर्फ़बारी होते रहने के कारण यहाँ जाने से पहले मौसम के बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लें।यहाँ जाने के लिए आपको ऑथोरिटीज से परमिट लेना पड़ेगा। गंगटोक से आपको यहाँ के लिए कई टैक्सी मिल जाएँगी।