पूर्वोत्तर के सांसद फोरम (एमईएमपीएफ) ने शुक्रवार को मिजोरम और असम दोनों सरकारों से सीमा पर शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए मैत्रीपूर्ण कदम उठाने की अपील की। एनईएमपीएफ अध्यक्ष किरेन रिजिजू और महासचिव विंसेंट एच. पाला ने एक बयान में कहा कि फोरम ने मिजोरम-असम में हाल के घटनाक्रम को पूर्वोत्तर के लोगों के लिए बड़ा पीड़ादायी और दुखद बताया है। 

उन्होंने कहा, दोनों ओर से लोगों की जान जाना और घायल होना चौंकाने वाला और खेदजनक वाक्या है और हम प्रभावित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हैं। हमें इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना से सही सबक लेना चाहिए कि अंतत: हिंसा और दुश्मनी से ही अपना नुकसान होता है। एनईएमपीएफ ने कहा कि हम मिजोरम और असम दोनों सरकारों से लंबे समय से लंबित विवाद को सुलझाने के ईमानदारी के साथ एक मंच पर आने की अपील करते हैं। हम मानते हैं कि इस संकल्प को पूरा करने के लिए सभी हितधारकों की सौहार्दपूर्ण भागीदारी महत्वपूर्ण है और हम दोनों राज्यों के बीच सौहार्दपूर्ण आपसी संबंधों की बहाली को देखने के लिए उत्सुक हैं।