बिहार में जाति आधारित जनगणना को लेकर सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच, बुधवार को विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने जाति आधारित जनगणना को लेकर भाजपा को फिर से घेरा है। उन्होंने कहा कि बिना जाति आधारित जनगणना के बिहार में कोई जनगणना नहीं होने देंगे।

ये भी पढ़ेंः ताइवानी विदेश मंत्री जोसेफ वू का बड़ा बयान, कहा - ताइवान और भारत के क्षेत्रों पर चीन का दावा बेतुका और बेहद खतरनाक


बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव ने जाति आधारित जनगणना को लेकर भाजपा को घेरते हुए ट्वीट कर लिखा कि भाजपा घोर सामाजिक न्याय विरोधी पार्टी है। बिहार विधानसभा से जातिगत जनगणना कराने का हमारा प्रस्ताव दो बार सर्वसम्मति से पारित हो चुका है। लेकिन भाजपा और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने लिखित में जातिगत जनगणना कराने से मना कर दिया है। उन्होंने आगे लिखा कि बिना इसके बिहार में कोई जनगणना नहीं होने देंगे।

ये भी पढ़ेंः 3 तलाक के बाद 'तलाक-ए-हसन' को लेकर मुस्लिम महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट का खटखटाया दरवाजा


उल्लेखनीय है कि बिहार में जातिगत जनगणना को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार के राजनीतिक दल का एक प्रतिनिधिमंडल पिछले साल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिला था। जदयू भी जाति आधारित जनगणना की पक्षधर है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी राज्य में जातिगत आधारित जनगणना कराने की बात कह चुके है। उन्होंने कहा था कि इसके लिए सर्वदलीय बैठक के बाद इस दिशा में कदम आगे बढ़ा जाएगा।