नीतीश कुमार सोमवार को 7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की तो उपमुख्यमंत्री के तौर पर तारकिशोर प्रसाद व रेणु देवी शपथ लेंगी। रविवार को एनडीए विधानमंडल दल की बैठक में ही दोनों का चयन भाजपा विधानमंडल दल के नेता व उपनेता के तौर पर हुआ है। राज्यपाल फागू चौहान इन्हें पद व गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे। अपराह्न साढ़े चार बजे राजभवन के राजेन्द्र मंडप में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित होगा।

नेता चुने जाने के बाद तारकिशोर देर शाम बिहार भाजपा प्रभारी भूपेन्द्र यादव और चुनाव प्रभारी सह महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेन्द्र फडणवीस के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सरकारी आवास पहुंचे। रात 11 बजे तक चली इस बैठक में दो उपमुख्यमंत्री को लेकर सहमति बनी। पार्टी सूत्रों के अनुसार उत्तर प्रदेश की तर्ज पर बिहार में भी दो उपमुख्यमंत्री बनाने का निर्णय पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का है। तारकिशोर प्रसाद वैश्य समुदाय से हैं तो भाजपा विधानमंडल दल की उपनेता बनीं रेणु देवी नोनिया समाज से हैं। 

आपको बता दें कि रविवार को दोपहर 12.30 बजे पटना में एक अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास में एनडीए विधानमंडल दल की बैठक हुई। यह बैठक नेता चुनने के लिए बुलायी गयी थी। केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को नेता चुने जाने का एलान किया, जिसका चारों घटक दलों के सदस्यों ने ताली बजाकर स्वागत किया। बैठक में बिहार भाजपा के प्रभारी भूपेन्द्र यादव, संगठन महामंत्री नागेन्द्र नाथ, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेन्द्र फडणवीस, केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, निवर्तमान उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी, भाजपा अध्यक्ष संजय जायसवाल, जदयू प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह, हम प्रमुख जीतन राम मांझी, वीआईपी के नेता मुकेश सहनी, जदयू के तमाम वरीय नेताओं समेत भाजपा, जदयू, हम और वीआईपी के सभी विधायक मौजूद रहे।

नीतीश कुमार ने केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में हुई एनडीए विधायक दल की बैठक में कहा कि मुख्यमंत्री बनने की मेरी इच्छा नहीं थी। हम चाहते थे कि भाजपा का कोई नेता मुख्यमंत्री बने। लेकिन भाजपा नेताओं और घटक दलों के आग्रह पर वे राजी हुए हैं। मिलकर काम करना है। बहुत बड़ी जवाबदेही है। 15 साल में हमलोगों ने बहुत काम किए हैं। देखना होगा कि कहां क्या कमी रह गई है। उन्हें 5 साल में तेज गति से काम करके पूरा करना होगा।

बाद में राजभवन से लौटने पर मीडिया से बातचीत में भी नीतीश कुमार ने कहा कि सबको काफी अच्छे ढंग से काम करना होगा ताकि बिहार के लोगों ने हमें जो अवसर दिया है, बिहार का और विकास हो सके। कहीं कोई कमी न रहे। न किसी क्षेत्र न समाज के किसी तबके के विकास में। बाक्सनीतीश कुमार ने बताया कि शपथ ग्रहण के बाद मंत्रिमंडल की बैठक बुलायी जाएगी। कैबिनेट की बैठक में सदन की बैठक पर निर्णय लिया जाएगा। इसी बैठक में निर्वाचित सभी विधायकों का शपथ ग्रहण होगा।

राजनाथ पर्यवेक्षक के रूप में रविवार को पटना आए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एनडीए की बैठक में कहा कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में भाजपा-जदयू की बहुत अच्छी सरकार बिहार में चली है। सरकार ने बहुत अच्छे काम किए हैं। इससे कौन इनकार कर सकता है। बिहार सरकार के विकास कार्यों की हर जगह तारीफ होती है। इस सरकार के दामन पर कोई दाग नहीं है। किसी मंत्री पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप अबतक नहीं लगा है। उन्होंने नीतीश कुमार के नेतृत्व में बनने वाली सरकार को शुभकामना दी साथ ही और अच्छे से विकास कार्यों को अंजाम देने की सलाह भी दी।