बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज कहा कि यदि उनके खिलाफ बोलकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुशील कुमार मोदी पार्टी में कुछ बन जाते हैं तो बोलते रहें, इससे उन्हें फर्क नहीं पड़ता। कुमार ने गुरुवार को यहां उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के साथ शहीद दिवस के अवसर पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के बाद पत्रकारों से बातचीत में भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी के कल दिए गए बयान के बाद अब कहा, कुछ लोग मेरे खिलाफ बोगस बयानबाजी कर रहे हैं। आपने देखा कि कैसे वह कह रहे थे कि मैं उपराष्ट्रपति बनना चाहता था। नहीं बन पाया तो गठबंधन तोड़ दिया। 

ये भी पढ़ेंः ममता को झटका, TMC नेता अनुब्रत मंडल गिरफ्तार, पशु तस्करी मामले में लिया ऐक्शन


मुख्यमंत्री ने साफ किया कि मोदी ने जो भी आरोप लगाया है वह पूरी तरह से गलत और बेबुनियाद है। उन्होंने मोदी पर तंज कसते हुए कहा, मेरे खिलाफ वह जो बोलना चाहते हैं बोले, मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। अभी वह कुछ नहीं हैं, यदि मेरे खिलाफ बोलकर पार्टी में उन्हें कोई जिम्मेदारी मिल जाती है तो यह उनके लिए बेहतर है। एक वक्त था जब कुमार और मोदी हर जगह साथ नजर आते थे। लेकिन, बदले राजनीतिक परिदृश्य के बाद अब दोनों नेताओं के बीच दूरी इतनी बढ़ गई कि वह एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करने से भी परहेज नहीं कर रहे हैं।  

ये भी पढ़ेंः एक्शन में CBI: पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग के दो पूर्व अधिकारियों को किया गिरफ्तार


बिहार में हुए सत्ता परिवर्तन को लेकर भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने कुमार के खिलाफ कई आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि कुमार उप राष्ट्रपति बनना चाह रहे थे, इसके लिए उन्होंने कोशिश भी की थी, लेकिन भाजपा ने उनकी बात नहीं मानी। इसी तरह जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को केंद्र में मंत्री बनाए जाने के लिए कुमार की सहमति लेने की बात कही थी। उन्होंने कुमार को अवसरवादी नेता करार दिया था। इस मौके पर उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि महागठबंधन के लोग जनता के लिए चिंतित रहते हैं। हम जनता के हितों के लिए काम करते हैं। वहीं, भाजपा है जो जोड़तोड़ की राजनीति में लगी रहती है। उन्होंने कहा कि भाजपा का एक ही सिद्धांत है जो डरेगा उसे आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से डराओ। जैसा देश में कई जगहों पर देखा गया है। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जो बिकेगा उसे खरीद लो और भाजपा में मिला लो। भाजपा इसी रणनीति पर देश में राजनीति कर रही है। उन्होंने कहा कि वहीं महागठबंधन हमेशा से जनता के चेहरे पर खुशी लाने के लिए काम करती है।