मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि एक सप्ताह में चिकित्सकों की नियुक्ति कर दी जाएगी। इसके बाद सूबे के अस्पतालों में चिकित्सकों की कमी दूर हो जाएगी। तैयारी हो चुकी है। मुख्यमंत्री गुरुवार को जल-जीवन-हरियाली यात्रा के तहत लखीसराय के सूर्यगढ़ा के प्रखंड कार्यालय मैदान में सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में आ रहीं अन्य दिक्कतों को सरकार जल्द से जल्द दूर करेगी। सम्मेलन में उपस्थित लोगों से कहा कि यहां 30 बेड का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनकर तैयार हो गया है। शीघ्र ही यहां चिकित्सकों की तैनाती कर इसे शुरू कर दिया जाएगा।
 

उन्होंने कहा कि मैं कहीं भी ऐसे ही नहीं जाता हूं, इसके पीछे कई मकसद होते हैं। सरकार की योजनाओं को सरजमीं पर उतारने के लिए खुद जिलों में पहुंचकर काम को देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि जल-जीवन-हरियाली अभियान को मिशन मोड में लागू किया जाएगा, जिसके लिए 24500 करोड़ की स्वीकृति दी गई है। आने वाले समय में इस योजना पर देश ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में काम होगा। पर्यावरण को लेकर हमने यहां काम भी शुरू कर दिया है। अगले तीन वर्षों में आठ करोड़ पौधे लगाए जाएंगे।
 

सीएम ने कहा कि हर इच्छुक किसानों को खेती के लिए अलग से बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। डीजल पंप से जहां सिंचाई पर 100 रुपये खर्च होते थे, वहां अब पांच रुपये में यह हो जाएगा। सीएम ने सूर्यगढ़ा के रामपुर गांव में पौधा लगाया। जीर्णोद्धार किए गए तालाब और कुआं को भी देखा। जल-जीवन-हरियाली के बोर्ड पर पहला हस्ताक्षर उन्होंने किया।