बिहार में पहले चरण के मतदान से एक दिन पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को एक वीडियो संदेश जारी कर लोगों से राज्य में बदलाव के लिए मतदान करने की अपील की। उन्होंने कहा, आज, सत्ताधारी पार्टी सत्ता के घमंड में है और अपने रास्ते से भटक गई है। उन्होंने कहा, उनकी कथनी और करनी अच्छी नहीं हैं, और मजदूर, किसान और युवा निराश हैं। अर्थव्यवस्था खराब स्थिति में है, लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। सोनिया ने कहा, हर कोई दुखी है और बिहार के लोग महागठबंधन के साथ हैं।

हिंदी में बोलते हुए, उन्होंने कहा, दिल्ली और बिहार सरकारें बंदी सरकार है --नोटबंदी, तालाबंदी, व्यापार बंदी, आर्थिक बंदी, खेत-खलिहान बंदी, रोटी-रोजगार बंदी सरकार हैं। इसलिए आगामी पीढिय़ों और नई उपज पैदावार के लिए, एक नए बिहार के निर्माण के लिए, राज्य के लोग तैयार हैं। परिवर्तन की बयार है। परिवर्तन ऊर्जा और नए विचार लाता है। समय एक नया अध्याय शुरू करने का है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, बिहार में कौशल की शक्ति है, लेकिन बेरोजगारी, पलायन और मुद्रास्फीति ने लोगों को केवल रुलाया है। बिहार रास्ता दिखा सकता है और यह भारत का दर्पण है और यह देश का आत्मविश्वास है। सभी सवालों का जवाब एक नए और उज्ज्वल भविष्य के लिए वोट देना है।

उन्होंने कहा, सत्ता के दंभ में वर्तमान बिहार सरकार अपने रास्ते से भटक गई है। न तो उनकी कथनी अच्छी है और न करनी। मजदूर असहाय हैं, किसान चिंतित हैं और युवा निराश हैं। जनता कांग्रेस महागठबंधन के साथ है। सोमवार को, सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर राजनीतिक विरोधियों और सिविल सोसाइटी के सदस्यों को निशाना बनाने के लिए हमला किया था और आगाह किया था कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र दोराहे पर है, क्योंकि असहमति को आतंकवाद या ब्रांडेड राष्ट्र विरोधी गतिविधि के रूप में देखा जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय अर्थव्यवस्था गहरे संकट में है। 243 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव तीन चरणों में होंगे। 28 अक्टूबर को 71 सीटों के लिए, 3 नवंबर को 94 सीटों के लिए और 7 नवंबर को शेष 78 सीटों के लिए चुनाव होंगे। परिणाम 10 नवंबर को घोषित किए जाएंगे।